Showing posts with label Internet Tips. Show all posts
Showing posts with label Internet Tips. Show all posts

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction कैसे करें Online या Offline


UIDAI ने आधार कार्ड को अपडेट करने या किसी भी तरह के सुधार/आधार कार्ड करेक्शन को ऑनलाइन और ऑफलाइन तरीके से करके लोगों के लिए  आसान बना दिया है।अब आप भी आसानी से अपना आधार कार्ड  में सुधार या आधार  कार्ड अपडेट कर सकते हैं.आधार कार्ड का पता, नाम, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर और आधार कार्ड पर ईमेल आईडी अपडेट या करेक्शन के लिए निचे दिए गए  Steps को follow करें.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction


#. आधार कार्ड में सुधार या किसी गलती को ठीक करना क्यों जरूरी है ?

हर एक भारतीय नागरिक के लिए आधार कार्ड  महत्वपूर्ण  और जरूरी हो चुका है, आधार कार्ड बनवाते समय  गलत जानकारी देना ,Spelling mistakes और अन्य गलतियों के कारण  आपके आधार  विवरण या personal Detail में बहुत सी समस्याएं हो सकती हैं।

उदाहरण के लिए -: आधार कार्ड और Pan कार्ड को लिंक करना , जो की बहुत सी Services के लिए प्रभावी रूप से अनिवार्य है, और साथ ही आपकी सभी details इन  दोनों Documents पर Same या मिलते जुलते  होनी चाहिए । अगर आपके Name, Gender और Date Of Birth, दोनों दस्तावेजों  पर समान  नहीं है, तो आपको आधार और पैन को लिंक करने में बहुत सी दिक्कतें आ सकती है या हो सकता है की आपका पैन और आधार लिंक ही न हो पाए. इसके अलावा बहुत से ऐसे अन्य कारण भी हो सकते हैं जिनके लिए आपको अपने 12 अंकों के Unique Identity Proof को अपडेट करने की जरूरत पड़ेगी. जैसे की अगर आपका आधार कार्ड निष्क्रिय हो जाये.

UIDAI के Helpline और आधार नामांकन केंद्र के अधिकारियों के अनुसार, यदि आपने लगातार 3 सालों से  किसी भी लेनदेन या Transactions के लिए अपने आधार का उपयोग नहीं किया है(जैसे कि आपके बैंक खाते या पैन को लिंक करना )तो आपका आधार कार्ड निष्क्रिय (inactive),हो सकता है। यदि ऐसा होता है, तो आपको अपने आधार को अपडेट करना होगा।

≻ Bitcoin Kya Hai aur ye Kaise Kaam Karta Hai?
≻ JIO Coin Kya hai Iski Puri jankari Hindi Me

-:आधार कार्ड में सुधार/आधार कार्ड अपडेट/Correction करें Online या offline तरीके-:

अगर आप भी  अपने आधार को अपडेट करना चाहते हैं ,इन तरीकों से आप ऐसा कर सकते हैं.
UIDAI वेबसाइट के अनुसार, आधार में Apni Details को अपडेट या  Corection करने के तीन तरीके हैं:
1. अपने Details को Online अपडेट/सुधार  करें
2. By Post के  द्वारा अपडेट/सुधार करना 
3. अपने नजदीकी Enrolment Center में जाकर


#1. ऑनलाइन अपडेट करना/Online-:

आम तौर पर कोई भी व्यक्ति आधार कार्ड पर अपना पता ,नाम, जन्म तिथि, लिंग, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी बदल सकता है। अपने  आधार कार्ड की  Details ऑनलाइन बदलने के लिए या आधार कार्ड अपडेट / बदलाव / सुधार के लिए इन Steps को Follow करें.

Step 1. सबसे पहले तो इस link से  UIDAI की Official Website पर Log On करें.https://ssup.uidai.gov.in/web/guest/update

Step 2. अपना आधार कार्ड नंबर  डालें और Text Verification बॉक्स में 4 नंबरों को सही सही डालें और फिर Send Otp पर क्लिक करें.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction

Step 3. Send Otp पर क्लिक करने के बाद आपके Registered Mobile नंबर पर एक OTP(One Time Password) प्राप्त होगा.

Step 4. OTP और Captcha code को डालें और Submit पर क्लिक करें.


Step 5. अब आपके सामने एक नया page खुलेगा, यहाँ पर आपको उन Fields को चुनना है जिनमे आप सुधार करना चाहते हैं या बदलना चाहते हैं और फिर Submit पर क्लिक करें .
जैसे की अगर आप अपना Address बदलना या सुधार करना चाहते हैं तो Address वाले box को चुने और Submit पर क्लिक करें.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction

Step 6. जिस भी detail को आप सुधार/अपडेट करना चाहते हैं उसके Proof Document को Scan करके  Upload करें.

Step 7. Document Proof upload करने के बाद एक URN(Update Request Number) मिलेगा जिससे आप अपने आधार कार्ड update Process को track कर सकते हैं.

Step 8. URN generated हो जाने के बाद आप Receipt को print कर सकते हैं  या फिर URN की Copy File को download कर सकते हैं.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction

Step 9. जब आपका आधार कार्ड Updated हो जायेगा तो आप अपना आधार कार्ड  Online ही Download/Print कर सकते हैं.

#2. Enrolment Centre में जाकर आधार कार्ड में सुधार /update/Correction कैसे करें-:

आधार कार्ड धारक अपने नजदीकी आधार नामांकन केंद्र/Enrolment Center पर जाकर  भी अपने आधार कार्ड में सुधार /अपडेट कर सकते हैं .

Step 1. नामांकन केंद्र से आधार Correction Form प्राप्त करें और उसे सही सही  भरें.
इस बात का ध्यान रखें की आपको फॉर्म में सभी  Correct Information को भरना है न की उसे जो आपके आधार में पहले से ही दर्ज है.

Step 2. Form के साथ में जरूरी Document Proof की Self attested(स्वप्रमाणित ) Copy/प्रतियाँ  भी लगायें.
सभी दस्तावेजों को फॉर्म के साथ जमा कर दें.

Step 3. इस पूरी प्रक्रिया के लिए आपसे नामांकन केंद्र के द्वारा  25 रूपए  का  शुल्क लिया जायेगा या जब भी आप अपने आधार सुधार/अपडेट के लिए Enrolment center में जाते हैं तो आपको 25 रूपए निर्धारित शुल्क जमा करना होता है.

Step 4. आप अपनी सभी details जैसे की Biometric डाटा, फोटो, mobile नंबर, पता आदि. को आधार नामांकन केंद्र में Update कर सकते हैं.

#3. आधार कार्ड की Detail को By  Post के द्वारा सुधार/अपडेट कैसे करें-:

आप चाहे तो अपने आधार कार्ड को  Post के द्वारा भी  update कर सकते हैं.

Step 1. सबसे पहले तो दी गयी लिंक से update/correction फॉर्म को Download या Print out निकल लें.
https://nsdl.co.in/downloadables/pdf/Aadhaar-Data-Update-Form-03.pdf

Step 2. अब आपको इस पुरे फॉर्म को भरना है ,फॉर्म भरते समय in बातों का ध्यान रखें.
1. फॉर्म को capital letters/बड़े अक्षरों में ही भरना है.
2. अगर आपके आधार कार्ड में किसी Local language/भाषा का उपयोग किया गया है तो उसी भाषा में इस फॉर्म को भरें.
3. फॉर्म में सभी जानकारी सही सही भरें यानिकी जिस भी जानकारी में आपको सुधार/update करना है उसे सही भरें.
4. फॉर्म में आप जिस भी जानकारी में सुधार कर रहे हैं उसकी Proof Documents की Copy भी  साथ में लगायें.

Step 3. फॉर्म को भरने के बाद पूरी तरह से जांच ले.और निम्न पते पर Speed Post द्वारा भेज दें.

Address 2: UIDAI
Post Box No. 99,
Banjara Hills,
Hyderabad – 500034,
India

#4 . आधार कार्ड में सुधार/अपडेट के लिए जरूरी दस्तावेज़/Documents

1 . अपने नाम में सुधार करने के लिए आपके पास इनमे से कोई भी एक  document होना चाहिए
  • पासपोर्ट
  • पैन कार्ड
  • वोटर कार्ड/Voter Id
  • ड्राइविंग लाइसेंस
2 . Address proof documents
  • पासपोर्ट
  • बैंक का statementजिसमें आपका खाता हो
  • बैंक की पासबुक
  • डाकघर का खाता विवरण या पासबुक
  • राशन कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • सरकार द्वारा जारी फोटो पहचान पत्र
  • पिछला 3 महीने का बिजली बिल
  • टेलीफोन से संबंधित पिछले तीन महीने का लैंडलाइन बिल
3 . Date of birth Document proof
  • जन्म प्रमाणपत्र
  • पासपोर्ट
  • किसी राजपत्रित अधिकारी या तहसीलदार द्वारा प्रमाणित जन्म तिथि प्रमाणपत्र
इन सभी दस्तावेज़ों की सहायता से आप अपने आधार कार्ड में सुधार या update कर सकते हैं."

अगर आपको आधार कार्ड में सुधार या आधार कार्ड अपडेट/Correction करने में कोई भी दिक्कत आ रही हो तो आप कमेंट कर के हमसे पूछ सकते हैं और इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा share जरूर कीजियेगा।


इंटरनेट क्या है ये कैसे चलता है -What is Internet In Hindi


इंटरनेट क्या है-What Is Internet In Hindi-:
Internet जिसे हम कभी कभी Net या Web भी कहते हैं,ये एक ऐसी चीज़ है जो आजकल हर किसी व्यक्ति के दैनिक जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है.
अगर Internet है तो कोई भी व्यक्ति एक ही जगह बैठकर पूरे दिन भर अपना Time pass कर सकता है या घर बैठे अपने Mobile या Computer से Internet पर बहुत सारे काम कर सकता है.इंटरनेट का हमारे जीवन इस प्रभाव पड़ चुका है कि हम 1 मिनट भी Internet के बिना नही रह सकते हैं.

≻ How to use Paytm In Hindi
Credit Card kya Hota hai

आजकल हर कोई अच्छी तरह से जानता है कि इंटरनेट कैसे चलाना है या फिर इसके क्या क्या उपयोग हैं लेकिन बहुत ही कम लोग ये जानते हैं कि इंटरनेट क्या है?ये कैसे बना और इसे किसने बनाया? मेरा मानना ये है कि अगर हम अपने Daily Life में किसी चीज़ का उपयोग कर रहे हैं तो हमे उसकी सामान्य जानकारी तो जरूर होनी चाहिए.इसलिए आज में आपको बताऊंगा की इंटरनेट क्या है(What is Internet In Hindi) और ये कैसे काम करता है.

 Internet kya hai ye kaise kaam karta hai

#1. इंटरनेट क्या है-:What Is Internet In Hindi?

क्या आप सोच सकते हैं कि एक समय ऐसा भी था जब आप Facebook, Twitter, Email, Snapchat, Whatsapp Chat आदि. कुछ भी नही कर सकते थे क्योंकि ये सबकुछ संभव नही हुआ करता था. लेकिन आज ये सभी चीज़ हम कुछ ही Seconds में कर सकते हैं, घर बैठे ही किसी दूर के व्यक्ति से बात कर सकते हैं, Video Call कर सकते हैं और ये सब कुछ संभव हुआ है Internet की मदद से. 

Webopedia के अनुसार,इंटरनेट बहुत सारे आपस मे जुड़े हुए या Connected Networks का एक Worldwide system है.हर एक नेटवर्क बहुत सारे Computers, Servers, Routers और Printers से मिलकर बना हुआ है.सामन्यतः आप Internet को एक Telephone network की तरह ही समझ सकते हैं,बहुत से लोग इसका उल्लेख(Refer) एक Information Super Highway की तरह भी करते हैं. 

#2. इंटरनेट को किसने बनाया?

इंटरनेट की शुरुआत 1969 में हुई थी,इसे U.S Defence Department(आमेरिकी रक्षा विभाग) ने बनाया था,सबसे पहले Internet network को Advanced Research Project Agency Network(ARPANET) का नाम दिया गया था. 

अमेरिकी सरकार का Internet को बनाने का मुख्य मकसद ये था कि किसी भी अमेरिकी यूनिवर्सिटी(US University) में रिसर्च करने वाले scientist यूनिवर्सिटी के Computers से किसी दूसरी यूनिवर्सिटी के Scientists से आपस मे बात कर सकें और जिस भी Research पर वो काम कर रहें हैं उसकी जानकारी का आपस मे लेनदेन कर सकें.

≻ Whatsapp Se Paise Kaise Kamaye Puri Jankari Hindi Me

शुरुआत में इसे एक गुप्त नेटवर्क(Private Network) के तौर पर बनाया गया था और इसके शुरुआती दौर में कोई भी व्यक्ति या User बिना किसी Permission के किसी भी दूसरे Computer को न कोई जानकारी भेज सकता था और न ही कोई जानकारी ले सकता था.लेकिन आज Internet के उपयोग Public, Cooperative और Self Usable है और कोई भी इसका उपयोग कर सकता है. 

#3. इंटरनेट काम कैसे करता है?

हम जान चुके हैं कि इंटरनेट क्या है और इसकी शुरुआत कैसे हुई थी?अब हम बात करेंगे कि इंटरनेट काम कैसे करता है.

≻ Bitcoin Kya Hai aur ye Kaise Kaam Karta Hai?
≻ JIO Coin Kya hai Iski Puri jankari Hindi Me

अपने Computer या मोबाइल पर इंटरनेट की मदद से आप किसी दूसरे व्यक्ति से संपर्क कर सकते हैं, बात कर सकते हैं, किसी भी तरह की जानकारी, Multimediaजैसे कि फ़ोटो,वीडियो,मैसेज आदि का आदान प्रदान कर सकते हैं. और ये सब कुछ संभव हो पाता है इन चीज़ों की वजह से.

HardWare-: बहुत सारी optical Fiber cables या फाइबर की तारों की मदद से इंटरनेट चलता है.जिस तरह से टेलीफोन कम्युनिकेशन के लिए तार बिछाई जाती है ठीक उसी तरह से इंटरनेट के लिए भी पूरी दुनिया मे Optical Fiber की तार बिछाई गई है.आम तौर पर इन तारों को समुद्र के नीचे बिछाया जाता है जिसे Submarine Cable भी कहते हैं.समुद्र के नीचे बिछाये जाने का कारण ये है ताकि इन तारों को कोई नुकसान न पहुंचे.

                            internet cables kya hai

Server-: Server/सर्वर एक Computer या Data Center होता है जो सभी Websites को स्टोर/संग्रह करके रखता है.सर्वर का काम किसी भी User/clients को किसी भी वेबसाइट से कनेक्ट करने के लिए या फिर किसी वेबसाइट में मौजूद जानकारियों को Access करने के लिए अनुमति देने का होता है. इसे हम Hosting server भी कहते हैं. 

Clients-: Client का मतलब है की ऐसा computer जिसपर Internet का उपयोग किया जा रहा है जैसे कि -:लैपटॉप, कंप्यूटर,मोबाइल,टेबलेट आदि. सभी Clients का खुदका एक Unique Address ya पता होता है जिसे IP(Internet protocol)Address भी कहा जाता है.

≻ 2018 Ke Top 5 Smartphones Under 15,000
≻ JIO 4G ki Speed Kaise badhay

Internet Service Provider(ISP)-: Internet service Provider या ISP का मतलब है कि ऐसी कंपनियां या आर्गेनाईजेशन होती है जो कस्टमर्स या आम लोगों को Internet Connection प्रदान करती हैं और सजे बदले में हमें उन्हें पैसे देने होते हैं.ISP कंपनियां नई टेक्नोलॉजी से Internet डाटा को संचारित या transmit करती हैं जैसे कि-: DSL, Cable के द्वारा, Wifi, Broadband आदि. 

Routers-: राऊटर को हैम ट्रैफिक कंट्रोल कम्प्यूटर्स भी कहते हैं. 2 या उससे ज्यादा इंटरनेट नेटवर्क के बीच मे जब भी किसी information का आदान-प्रदान किया जाता है तो Routers उस information को बिना किसी रुकावट के उसकी सही जगह तक पहुंचा देता है या फिर हम कह सकते हैं कि राऊटर 2 या उससे ज्यादा नेटवर्क को आपस ने जोड़ने के काम करता है. 

ये एक Dispatcher/Controller का काम करता है ताकि जिस भी जानकारी का Internet पर आदान प्रदान किया जा रहा है वो अपनी सही जगह पर पहुंचे और बहुत ही तेज़ी से या जल्दी पहुँचे. 

Domain Name System/Server-: इंटरनेट पर किसी भी Website को ओपन करने के लिए Domain Name System(DNS) बहुत जरूरी होता है. सामान्यतः जब भी हम इंटरनेट पर कोई वेबसाइट(www.example.com)  Search करते हैं तो DNS उस Web Address को एक IP Address में Translate करके उस Website को उसके Hosting Server से कनेक्ट कर देता है.Hosting सर्वर से कनेक्ट हो जाने पर Website ओपन हो जाती है और website पर मौजूद सभी जानकारी हमे मिल पाती है. 


#4. India में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई?

15 अगस्त,1995 को विदेश संचार निगम लिमिटेड(VSNL) ने पूरे भारत मे सभी लोगों के लिए Internet सेवाएँ जारी की थी,आज भारत मे इंटरनेट को पूरे 22 साल हो चुके हैं. 

शुरुआत में India में इंटरनेट की अधिकतम स्पीड सिर्फ 50kbps थी इसके बाद 2002 ने रिलायंस ने CDMA सर्विस को launch किया था जिसके बाद से Mobile में Internet चलाने की लोकप्रियता बढ़ गयी थी.

#5. Internet के फायदे और नुकसान?

#1. Advantages(फायदे )
  • इंटरनेट की सहायता से हम पूरी दुनिया से जुड़े रह सकते हैं.
  • किसी भी समय या 24 घण्टे इसका उयोग कर सकते हैं.
  • इंटरनेट की मदद से हम अपने व्यवसाय, व्यक्तित्व आदि को विकसित कर सकते हैं.
  • Online बात चीत, वीडियो कॉल, फ़ोन, आदि भी इंटरनेट की वजह से ही सम्भव हो पाता है.
  • इंटरनेट से हम किसी भी तरह की Payment ले भी सकते हैं और दे भी सकते हैं जैसे कि – बैंक ट्रांसफर, नेट बैंकिंग, बिल, रिचार्ज आदि.

#2. Disadvantages(नुक्सान )
Internet के आने पर बहुत सी नई चीजों का विकास हुआ है लेकिन इसकी वजह से बहुत सी ऐसी चीजों की भी शुरुआत हुई है जो Internet के सबसे बड़े नुकसान हैं जैसे कि-: 
  • Spamming
  • Hacking(हैकिंग करना)
  • Internet Viruses
  • Cheating(धोखाधड़ी )
  • Cyber Crimes(साइबर अपराध )
  • Identity theft(खुद की पहचान चोरी होना )
  • Depression( इंटरनेट का आदि हो जाने पर तनाव जैसे समस्याएं होना

#. निष्कर्ष-:What is Internet In Hindi

आज लगभग करोड़ों लोग हर दिन इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं.कुछ इसका सदुपयोग करते हैं तो कुछ इसके द्वारा गलत कामों (साइबर अपराध) को अंजाम देते हैं. बहुत से लोगों ने इंटरनेट और ही अपना भविष्य विकसित किया है और इसे ही अपनी आय का स्त्रोत बनाया है. लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी हैं गलत तरीके से इंटरनेट का उपयोग करके पैसे कमाते हैं या किसी अपराध को अंजाम देते हैं और बाद में उन्हें पछताना पड़ता है.  
इन बातों से मेरा मतलब ये है कि हमे Internet का उपयोग तो करना चाहिए लेकिन एक सीमा में रहकर.क्योंकि अगर इसकी लत लग जाये तो इससे बाहर निकलना बहुत मुश्किल होता है। इसके अलावा इंटरनेट का use पूरी सुरक्षा के साथ करना चाहिए ताकि आगे चलकर आपको किसी hacking, spamming, और किसी धोखाधड़ी का शिकार न होना पड़े. 

मुझे उम्मीद है कि अब आप जान गए होंगे कि इंटरनेट क्या है-what is Internet In Hindi ,और ये कैसे चलता है. मैं चाहता हूं कि आप इस पोस्ट को अपने जभी दोस्तों, और सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें ताकि और भी लोगों को internet की सामान्य जानकारी मालूम हो सके.


कम खर्च वाले 11 नए बिजनेस आइडिया- business ideas in hindi 2018


Business Ideas In Hindi -नए बिज़नेस आइडिया-:
आज के समय में भारत जैसे बड़े देश में रोजगार की बहुत कमी है और लाखों युवा बड़ी बड़ी डिग्री  होने के बावजूद भी बेरोजगार हैं. ऐसे में हर किसी के मन में एक न एक बार ये सवाल जरूर आता है की क्यों न कोई Business  कर लिया जाये? कोनसा बिज़नेस करें ? लेकिन फिर आप सोचते होंगे की Business  करने के लिए तो बहुत सारे पैसों की भी जरूरत पड़ेगी और इतना सारा पैसा कहाँ से लाया जाये।
लेकिन जरूरी नहीं की हर बिज़नेस के लिए आपके पास बहुत सारे पैसे होने चाहिए क्युकी आज भी बहुत से ऐसे बिजनेस हैं जिनपर आपको बहुत कम निवेश या कुछ भी निवेश करने की जरूरत नहीं होती और हर महीने एक अच्छी आय भी कमा लेते हैं.

इसलिए आज के इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा कुछ नए बिज़नेस  आइडिया(Business Ideas In Hindi )जिन्हे आप आज ही शुरू कर सकते हैं और हर महीने पैसे कमा सकते हैं.

Business ideas in hindi


Business Ideas In Hindi-:

#1. Mobile Phone Repair, Accessories, Recharge Shop

भारत में अभी लगभग 300 मिलियन Smartphone यूजर्स मौजूद हैं। और आगे भी यह आंकड़ा तेजी से बढ़ता रहेगा क्योंकि अधिक ब्रांड और सस्ते Variants वाले स्मार्टफोन हर दिन बाज़ार में प्रवेश करते रहते हैं।

इसीलिए आउटलेट, रिचार्ज और मोबाइल फोन की मरम्मत करने वाले व्यक्तियों की मांग भी हर दिन बढ़ने लगी है, इसलिए Mobile फ़ोन की Repair,Accessories का business भी Profit से भरा है. इसके अलावा आप Mobile recharge ,Data Recharge की सेवाएं भी प्रदान कर सकते हैं.

#2. Tiffin Service Business

यह व्यवसाय खासतौर पर महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ लघु व्यवसाय विचारों में से एक है.आजकल घर और काम में भोजन और Tiffin के लिए डिलीवरी की मांग में काफी बढ़ोतरी हुई है।

आप अपने छोटे व्यवसाय को अपने रसोई घर से ताजा, पौष्टिक भोजन की तैयारी करके और उन्हें विभीन्न कार्यालयों और घरों में Tiffen Service के रूप में Supply करके लॉन्च कर सकते हैं.

#3. Travel Agency 

Travel Agency की स्थापना करना बहुत ही आसान व्यवसाय है। यह कम लागत और आसानी से Setup किया जाने वाला Business है जिसे आप बहुत ही छोटे या लगभग 50,000रु निवेश करके शुरू कर सकते हैं और लगभग र 5,000 / - प्रति दिन आसानी से कम सकते हैं.
आपको बस सरल तरीके से Counter Table,Computer,Inverter और Printer के साथ एक छोटा Office स्थापित करना है।

शुरू में आप किसी Third party की वेबसाइट जैसे MakeMyTrip,Redbus,IRCTC आदि का उपयोग कर सकते हैं। शुरुआत में आप उड़ानों, बसों और ट्रेनों को बुक करने के लिए 50-100 प्रति बुकिंग तक कमीशन शुल्क charge कर सकते हैं और धीरे-धीरे आप उन Travel Agencies के Direct agent बन सकते हैं.

#4. Photographer

एक फोटो ग्राफर बनना अपने आप में ही एक अच्छा business है. अगर आप तस्वीरें लेने के शोकीन हैं और अच्छी तस्वीरें Click कर सकते हैं तो आप अपने इस हुनर को Profit में बदल सकते हैं और एक Professional Photographer बन सकते हैं
.
शादियों, रिसेप्शन, वर्कशॉप,सेमिनार,concerts,प्रदर्शनियों, और अन्य व्यक्तिगत और व्यवसायिक अवसरों पर लोग हमेशा Professional Photographers को बुलाते हैं.ये एक फायदेमंद व्यवसाय है इसमें आपको सिर्फ Photography के लिए जरूरी सामग्री जैसे की- कैमरा, और फोटोग्राफी से Related Gadgets पर ही निवेश करना होगा.


#5. Blogging

Blogging का मतलब है कि किसी भी Topic पर अपने विचारों और जानकारी को Internet और एक Blog/Website के माध्यम से लाखों लोगों तक पहुंचाना,ऐसा करने से Internet पर आपकी एक पहचान बनती है और साथ ही साथ हर महीने हज़ारो/लाखों रुपये भी कमा सकते हैं.

अगर आपको किसी भी Topic या Subject की बहुत ही अच्छी जानकारी है तो आप उस जानकारी को Blogging के माध्यम से जरूरतमंद लोगों तक पहुँचा सकते हैं और पैसे कमा सकते हैं.
Blogging को आप Free में शुरू कर सकते हैं या फिर बहुत ही कम रुपये खर्च करके भी शुरू कर सकते हैं.
अगर आप नियमित रूप से अपने Blog पर Quality से भरे Article लिखते हैं तो लगभग 6 महीने में आप अपने Blog से पैसे कमाने लगेंगे.

ब्लॉगिंग से पैसे कमाने के बहुत से तरीके हैं जैसे कि Advertising, Affiliate marketing, Paid Promotion इत्यादि.
Blogging कैसे करे और इससे पैसे कैसे कमाएँ स संबंधित जानकारियों के लिए आप हमारी Blogging से संबंधित Posts को पढ़ सकते हैं.

#6. Youtube 

जिस तरह से आप अपने मनोरंजन या किसी भी जानकारी के लिए Youtube पर Videos देखते हैं उसी तरह आप अपनी वीडियोस भी youtube पर Upload  करके लोगों का मनोरंजन कर सकते हैं और इसके साथ बहुत सारे पैसे भी कमा सकते हैं.

इसके लिए सबसे पहले आपको एक Topic चुनना होगा जैसे कि मनोरंजन,कॉमेडी, Tutorial  आदि जिसपर आप वीडियोस बनाएंगे, ध्यान रहे कभी किसी दूसरे की वीडियोस को कॉपी बिल्कुल न करे क्योंकि ऐसा करने पर आपका channel हमेशा के लिए बन्द हो सकता है.

एक Topic चुनने के बाद आपको उस Topic पर वीडियोस बनानी है और उन्हें अपने Channel पर अपलोड करना है.

जैसे जैसे आपके Youtube Channel पर Subscribers और वीडियोस पर Viewers बढ़ने लगे तो आप अपनी वीडियोस को पैसे कमाने के लिए Monetize कर सकते हैं.
Youtube पर आप Advertising, Affiliate marketing, paid promotion के जरिये लाखों रुपये कमा सकते हैं


#7. Tution Center

Tution  या Coaching सेंटर आज के दिन में एक फायदेमंद व्यवसाय है जिसे आप बहुत ही कम खर्चे पर या 0 रुपये में भी शुरू कर सकते हैं.अगर आपका खुदका घर है तो अपने घर पर ही आप Tution center की शुरुआत कर सकते हैं, या फिर किराये के घर पर.

सबसे पहले तो आपको ये तय करना होगा कि आप किस Level तक के students को पढ़ाएंगे. अगर आप Graduated हैं तो 12th तक Students को पढ़ा सकते हैं और अगर Postgraduated हैं तो College level तक के students को पढ़ा सकते हैं.

सिर्फ Graduate या postgraduate होने से ही काम नही चलेगा आपको सभी Subjects या किसी Particular Subject की अच्छी तरह से जानकारी होनी चाहिए जिसपर आप Tution पढ़ाएंगे.

#8. Juice Center/Corner

Juice कॉर्नर भी आज के समय मे एक बेहतर व्यवसाय है. मौसम चाहे कैसा भी हो आज कल हर कोई ताज़े फलों का रस या जूस पीना पसंद करता है और डॉक्टर भी इसकी सलाह देते हैं. ये एक High profit वाला व्यवसाय हो सकता है अगर आप इसे एक सही युक्ति(Strategy) के साथ शुरू करें तो.

एक Juice Center खोलने के लिए आपके पर 2 Option हैं, पहला Juice Bar/Shop जिसके आपको Shop की जरूरत पड़ेगी, और दूसरा Mobile Juice Corner जिसे ठेला भी कहा जाता है. लेकिन दोनों के लिए आपको ऐसी जगह को चुनना होगा जहां पर भीड़ ज्यादा हो जैसे कि बाजार, पार्क, स्कूल,कॉलेज के आस पास.

इस व्यवसाय में आपको लगभग 30-50,000 रुपये तक निवेश करने पड़ेंगे और कम से कम 1 Helper की जरूरत भी पड़ेगी.इसके अलावा कुछ जरूरी चीज़े जैसे कि-

-:Raw Material
नियमित रूप से आपको ताज़े फलों और सब्जियों की जरूरत पड़ेगी, विभीन्न तरह के शेक के लिए दूध, बर्फ, Ice Cream,  और Extra Topping के लिए Strawberry आदि.

-:Equipments
Juice निकालने की मशीन, एक छोटा फ्रीज(बर्फ को Store करने के लिए), Glass, Straw, और अन्य बर्तन.

#9. Online Business 

आप इंटरनेट पर भी Business करके लाखो रुपये कमा सकते हैं, internet पर बहुत से ऐसे व्यवसाय हैं जिन्हें आप घर बैठे या Office से भी कर सकते हैं वो भी बिना किसी Investment के.
इस बारे में मैंने एक पोस्ट लिखी जिसमे मैंने बताये हैं Online Business ideas in hindi 2018 अधिक जानकारी के लिए आप ये पोस्ट पढ़ सकते हैं.

#10. Mushroom Cultivation(मशरुम की खेती)

मशरूम की खेती और इसका उत्पादन एक Best व्यवसाय है. मशरूम में बहुत से औषधीय गुण पाए जाते हैं और इसके प्रोटीन, फाइबर और अमीनों एसिड जैसे तत्व पाए जाते हैं.मशरूम 100% शाकाहारी भोजन है और Diabetes  और जोड़ो के दर्द के लिए अच्छा माना जाता है.

मशरूम का उपयोग करके अचार, सूप पाउडर, स्वास्थ्य पाउडर, कैप्सूल, सब्जी, पकोड़े आदि बनाये जा सकते हैं. इसमे कोलेस्ट्रॉल नही होता और ये खून को सुद्ध रखता है.
मशरूम के उत्पादन के लिए बहुत की कम जमीन की जरूरत होती है और शिक्षित या अशिक्षित युवाओ के लिए ये रोजगार का एक बेहतर स्त्रोत है.

मशरूम की खेती करने से पहले आपको ये तय करना होगा कि कोनसी प्रजाति के मशरूम की खेती करने वाले हैं क्योंकि मशरूम की बहुत सारी प्रजातियां होती हैं.
मशरुम की खेती करने के लिए सबसे जरूरी चीज़ है एक निर्धारित तापमान और नमी(Temprature एंड Humidity) की इसके बाद आपको किसी horticulture Institute से Organic Seeds/बीज खरीदने होंगे इसके अलावा खाद तैयार करना, खाद और बीजों का मिश्रण, और कटाई जैसे कार्य भी इसमें शामिल होते हैं.

#11. Bakery(बेकरी)-Business ideas in hindi

एक बेकरी  का व्यवसाय करने के लिए बहुत सारा समय और प्रयास की जरूरत होती है, हम पहले ही जानते हैं की Backries खासतौर पर Birthday cakes,Cookies और अन्य तरह के Tasty Stuffs के लिए जानी जाती हैं.

एक बेकरी का व्यवसाय खोलने के लिए आपको कुछ जरूरी Steps जैसे की एक बेहतर जगह, लाइसेंस ,Manpower(श्रमशक्ति), मार्केटिंग आदि की जरुरत पड़ेगी और इन सबमे आपको लगभग 5-10  लाख रूपए तक निवेश करने पड़ेंगे.

इसके अलावा कभी भी Quality के साथ Compromise न करें, और हमेशा दुसरे बेकर्स से अच्छी quality Provide करें.हमेशा अपने प्रोडक्ट्स में नई-नई Innovations और Creativeness करते रहें, ऐसा करने से लोग कुछ नई चीज़ के लिए  बार बार आपके पास आते रहेंगे .
इसके साथ साथ आप अपने इस व्यवसाय को Online भी Provide कर सकते हैं और social media जैसे बड़े platforms पर अपने Business की Marketing और promotion कर सकते हैं.

#12. Food Trucks

छोटे शहरों के लिए Food Trucks अब कोई विदेशी concept नहीं रहा हम इसे  छोटे ठेलों का एक Upgrated रूप भी कह सकते हैं  , Food Trucks को  Mobile eating Points भी कहा जाता है जहाँ पर उचित मूल्य में हर प्रकार के व्यंजन मौजूद होते हैं.

Food ट्रक business के लिए आपको किसी जगह या दुकान की जरूरत नहीं होती और इसकी एक खासियत ये है की आप इसे किसी भी समय अलग अलग जगहों पर स्थापित कर सकते हैं जैसे की दोपहर में किसी Office या College के बाहर, शाम को किसी पार्क या बाज़ार में या कभी highway पर पार्क करके आप इस व्यवसाय से अच्छे खासे पैसे कमा सकते हैं वो भी बहुत कम निवेश करके.

तो ये थी हमारी आज की पोस्ट जिसमे मैंने आपको बताये नए बिज़नेस आइडिया,Business Ideas In Hindi.मुझे उम्मीद है की आपको हमारा पोस्ट पसंद आया होगा और आगे भी हम नए नए Business की जानकारियां आप तक पहुंचाते रहेंगे, मेरी आपसे Request  है की हमारी इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर और अपने सभी मित्रों तक पहुचायें ताकि उन्हें भी बिज़नेस करने से सम्बंधित कुछ जरूरी जानकारी मिल सके.


म्यूच्यूअल फंड्स क्या है | म्युचुअल फंड कैसे ख़रीदे- Mutual Funds in Hindi


#1. म्यूच्यूअल फंड्स क्या है -Mutual Funds In Hindi

म्युचुअल फंड एक ट्रस्ट(Trust) या एसेट मैनेजमेंट कंपनी(Asset Management Company)के रूप में कार्य करते हैं इनका काम विभिन्न Different निवेशकों(Investors) से पैसे Collect करके उस पैसे को manage करने का होता है । इसके बाद ये कुछ वित्तीय लक्ष्यों(Financial Goal) या Profit को प्राप्त करने के लिए बहुत सी संपत्तियों और Projects में इन पैसों का निवेश(Invest) करते हैं ।
अगर दूसरे शब्दों में कहें तो म्यूच्यूअल फंड्स Trust के रूप में कार्य करते हैं, जो Investors की बचत(savings) को मजबूत करते हैं और उन्हें लाभ कमाने के लिए फंड में पुन: निवेश(ReInvest) करते हैं और जितना भी Profit होता है उसे निवेशकों(Investors) में बाँट दिया जाता है  और  इसके बदले में, Asset Management Companies इस Service के लिए शुल्क(Fee) के रूप में एक निर्धारित  धनराशी (Amount) charge कर लेते हैं.Mutual Funds In Hindi

Mutual Funds In Hindi

#2. म्युचुअल फंड के प्रकार(Types Of Mutual Funds In Hindi)

Mutual Fund की अवधि कितनी होगी इस आधार पर इसे 2 भागों(Parts) में बांटा गया है , म्युचुअल फंड को 2 मुख्य श्रेणियों में बांटा गया है - Open Ended और Close Ended।

-: Open Ended(ओपन एंडेड) - इस प्रकार के Mutual Fund में कोई भी निश्चित तिथि नहीं होती की कब ये योजना बंद हो जाएगी. यानिकी Investors को ये नहीं मालुम होता की ये योजना(Scheme) कब तक चलेगी और कब बंद होगी.

〉  Bitcoin Kya Hai.

-: ओपन एंडेड स्कीम के प्रकार

#1. Debt/Income(ऋण / आय:)

एक Debt/Income योजना में, धन का एक प्रमुख हिस्सा डिबेंचरों, गिल्ट फंड, सरकारी प्रतिभूतियों(Debentures, Gilt Fund, Government Securities)और अन्य ऋण साधनों में Invest किया जाता है। यह एक कम जोखिम( Low Risk) वाला निवेश विकल्प है जो स्थिर आय(Steady Income) के साथ निवेशकों(Investors) के लिए Best option है।

या फिर कहें तो इस  प्रकार के फंड कम जोखिम वाले होते हैं, क्योंकि ये किसी प्रकार के जोखिम को नहीं लेते हैं। ये योजनाएं ऋण संबंधी प्रतिभूतियों(Securities) जैसे वाणिज्यिक कागजात(Commercial Papers),Bonds में निवेश करती हैं, ये आपको एक बेहतर रिटर्न दे सकते हैं।

≻ पेटीएम क्या है- How To Use Paytm In Hindi
≻ Internet kya hai Ye Kaise Kaam Karta Hai- The Ultimate Guide In Hindi


#2. Money Market

अपने अधिशेष धन (Extra savings) का उपयोग करने वाले Investors इन कम समय वाले निवेश विकल्पों (Short-term Investments Options) में Invest कर सकते हैं, जो निवेशकों को उचित रिटर्न(Reasonable Returns) प्रदान करते हैं।

#3. Equity Growth Funds(इक्विटी / ग्रोथ फंड्स)

Equity निवेश, Retail Investors के बीच म्यूचुअल फ़ंड का एक popular रूप हैं। ये एक कम समय(Short Term) में उच्च जोखिम(High Risk)वाला निवेश है , लेकिन निवेशक आगे चलकर उच्च पूंजी (High capital) की उम्मीद कर सकते हैं। यदि आप लंबे समय तक लाभ की तलाश कर रहे हैं और जोखिम लेने के लिए तैयार हैं , तो Equity Growth Fund आपके लिए एक Best Investment  Option हैं।

#4. Index Scheme(सूचकांक योजना:) 

ये निवेश निफ्टी, सेंसेक्स,(Nifty,Sensex) जैसे BenchMark Index की आवाजाही की ही  नकल करते हैं। ये निवेश Sensex और Nifty की तरह बाजार की स्थितियों और चाल-चलन के अनुसार किया जाता है।

#5. Sector Scheme(सेक्टर स्कीम: ) 

इन Funds को आईटी, आधारिक संरचना , फार्मास्यूटिकल्स, खनन(IT,Infrastructure,Pharmacuticals,Mining) आदि जैसे  क्षेत्रों Sectors में निवेश किया जाता है या फिर पूंजी बाजार(Capital market)जैसे Large Cap,Mid-Cap आदि के क्षेत्रो में निवेश किया जाता है।

#6. Tax Saving Funds(टैक्स सेविंग)

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट रूप से पता चलता है की  यह Mutual Fund sCheme निवेशकों को कर लाभ(Tax Benefits)प्रदान करते हैं। इस तरह के फंड्स आमतौर पर  दीर्घकालिक विकास(Long Term Growth) के अवसर प्रदान करते हैं। Tax Savings Mutual Funds योजनायें आम तौर पर 3 साल की अवधि की होती है।

#7. Balanced(संतुलित)

ये फंड आम तौर पर Equity में 65% और बाकी Debt Securities में निवेश करते हैं। बाजार की स्थितियों के मुताबिक ये योजना Equity Exposure को कम कर सकती है और डेट प्रतिभूतियों में निवेश कर सकती है। Medium Risk appetite(माध्यम जोखिम भोग ) के निवेशक इन Funds में निवेश कर सकते हैं और 10-15% सालाना रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं।


#. Close Ended- इस तरह के फंड्स की एक निश्चित अवधि या समय सीमा होती है.

-: क्लोज-एंडेड स्कीम के प्रकार

Close Ended Scheme में निवेश करने से पहले एक बात का ध्यान रखें की आप  Close Ended योजना में उसी समय निवेश कर सकते हैं, जब उसे शुरू में लॉन्च किया जाता है। इसे New Fund Offer(NFO)Period के रूप में जाना जाता है। इन Mutual Funds समय अवधि तय होती है (Fixed Time Period).

#1. Capital Protection(पूंजी संरक्षण)

इन योजनाओं का मुख्य उद्देश्य Investors को उचित रिटर्न(Reasonable Return) देने की कोशिश करते हुए मूलधन(Principle Amount) को protect करना है। इस तरह की योजनाओं में धन(Fund)को एक  उच्च-गुणवत्ता वाली Fixed Income Securities में  निवेश किया जाता है जिनकी एक निश्चित समय अवधि होती है.

#2. Fixed Maturity Scheme Funds(निश्चित परिपक्वता योजना)

जैसा कि नाम से ही पता  चलता है की  ये  Mutual Fund Schemes एक निर्धारित परिपक्वता अवधि(Fixed Maturity Period) के साथ शुरू की जाती हैं । इस तरह की योजनाओं में किसी प्रकार का सक्रिय व्यापार(Active Trading) शामिल नहीं होता है और इसलिए सक्रिय रूप से प्रबंधित योजनाओं(Actively Managed Schemes) की तुलना में इस योजना में  रिटर्न बहुत कम  होता है।


इन Open Ended और Closed Ended योजनाओं के अलावा,Interval Mutual Funds भी होते हैं  जो Open और Closed Ended Funds के Combination की तरह काम करते हैं ,इस तरह की योजनाएं Investors को पूर्व-निर्धारित अंतराल(Pre defined Intervals) पर units को trade  करने की अनुमति देती हैं।


#3. Mutual Fund में निवेश कैसे करें(How To Invest In Mutual Funds In Hindi)


म्यूचुअल फंड निवेश करना पैसा बनाने के सबसे पसंदीदा तरीकों में से एक है। म्यूच्यूअल फंड्स, Investment Professional के द्वारा प्रबंधित स्टॉक और बॉन्ड का एक collection होता है। यदि आप म्यूचुअल फंड्स में Invest करने की सोच रहे हैं तो इन महत्वपूर्ण Steps को follow करने के लिए तैयार रहें  जैसे की - आपके पास सभी Important Papers होने चाहिए ,Investment के उद्देश्य को जानना और सही Mutual Fund Scheme का चयन करना.

हालांकि, म्यूचुअल फंड निवेश में Beginners को कुछ और चीजें जाननी चाहिए ताकि वे सही निर्णय ले सकें। यहां उन चीजों की एक सूची दी गई है जिन्हें आपको Mutual Funds में निवेश करने से पहले जान लेना चाहिए-:


#1. अपने निवेश के उद्देश्य और एक सही म्यूच्यूअल फंड्स का चुनाव करना

एक निवेश करने का उद्देश्य अच्छी तरह से परिभाषित होना चाहिए , कहने का मतलब है की आप Invesment क्यों करना चाहते हैं - एक कार खरीदने के लिए , घर खरीदने के लिए ,बच्चो की पढाई के लिए ,शादी की योजना के लिए, आदि। यहां तक ​​कि अगर आपके पास कोई लक्ष्य नहीं है, तो आपको यह मालुम होना चाहिए कि आपको कितना पैसा invest करना है और कितना समय तक के लिए आपको इसमें बने रहना है.

योजना के उद्देश्यों को अच्छी तरह से समझने के लिए योजना संबंधित सभी  दस्तावेज़ों को ध्यान से पढ़ना चाहिए और ये जान लेना चाहिए की क्या ये योजना आपके सभी उद्देश्यों को पूरा करने योग्य है या नहीं।

हमेशा" Savings का उद्देश्य "और" उस वर्ष का निर्णय कर लें जब आपको अपने पैसे की ज़रूरत होगी। ऐसा करना आपको विभिन्न Mutual Fund Options के Basis जैसे की -जोखिम का स्तर, लॉक-इन अवधि, भुगतान पद्धति(Payment Method), आदि को Filterकरने में मदद करेगा।


#2. अपनी जोखिम लेने की क्षमता को तय कर लें

यदि आप एक नए निवेशक हैं, तो आपको एक बात जान लेनी चाहिए की India में बहुत सारे Mutual Funds उपलब्ध हैं, कुछ कम जोखिम वाले हैं तो कुछ ज्यादा जोखिम वाले हैं।इसलिए आपको अपनी जोखिम लेने की क्षमता के अनुसार ही किसी योजना का चयन करना चाहिए.एक बात का ध्यान रखें की अगर कोई योजना उच्चतर रिटर्न प्रदान करती हैं तो उसमे उतने ही ज्यादा जोखिम(Risk) की समभावना(Possibility) भी होती है इसलिए किसी भी Scheme को चुनते समय दिमाग से काम ले क्युकी ये आपका पैसा और भविष्य है.


#3. योजना का चयन और निवेश की स्थिति

दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों की योजना के लिए आपको हमेशा एक योग्य म्यूचुअल फंड सलाहकार की मदद लेनी चाहिए. वे आपकी प्राथमिकताओं के अनुसार आपके लिए एक बेहतर Scheme (तरल, ऋण, हाइब्रिड या इक्विटी), Option( विकास, लाभांश भुगतान या पुनर्गठन), Strategy (एसआईपी, एकमुश्त, एसटीपी, एसडब्ल्यूपी, आदि) को सूचीबद्ध कर सकते हैं।


#4. फंड का पिछला प्रदर्शन देखें

अगर देखा जाये तो इस बात की गारंटी नहीं होती की अगर किसी फंड ने इससे पहले अच्छा प्रदर्शन किया है तो आगे भी वो अच्छा की प्रदर्शन करेगा. इसीलिए आपको फंड में निवेश करने से पहले सभी Funds की पिछली performance रिपोर्ट देख लेनी चाहिए और सभी Funds की तुलना एक दुसरे के साथ करनी चाहिए और जो बेहतर लगे उसी में निवेश करना  चाहिए.

इसके अलावा आपको ऐसे फंड को चुनना चाहिए जिसका प्रदर्शन हमेशा से बेहतर औए समान रहा हो.


#5. कंपनी का पिछला Record भी चेक कर लें

जिस भी कंपनी के Mutual Fund योजना में आप निवेश करने जा रहे हैं उसके पीछे रिकार्ड्स और प्रदर्शन की जांच अच्छी तरह से कर ले.
कंपनी के बारे में कुछ जरूरी जानकारियां जैसे की , कंपनी कितने समय से काम कर रही है, कंपनी के दूसरी योजनाओ का प्रदर्शन कैसा रहा है, और उस कंपनी की बाज़ार में कैसी स्थिति है आदि.

इसके अलावा उस कंपनी के फंड मेनेजर का पिछला record भी अच्छी तरह से चेक कर ले, ऐसा करना इसलिए जरूरी होता है क्युकी आपके पैसे कहाँ पर निवेश करने हैं इस बात का पूरा दायित्व Manager को होता है.और एक काबिल मेनेजर आपके पैसों को बेहतर तरीके से एक अच्छी जगह पर निवेश करने के तरीके जानता है.


#4. Mutual Funds खरीदने के तरीके In Hindi

 किसी भी म्यूचुअल फंड योजना में आप Online(AMC के द्वारा प्रदान की जाने वाली ऑनलाइन निवेश सुविधा) या फिर Offline(किसी Mutual Fundकंपनी की शाखा में जा कर) निवेश कर सकते हैं.

लेकिन चाहे आप ऑनलाइन निवेश करे या फिर ऑफलाइन निवेश करे आपको कुछ जरूरी दस्तावेजों की आवश्यकता होगी-: फोटो, पैन कार्ड,नाम, पता प्रमाण, बैंक खाता विवरण, और केवाईसी अनुपालन(Photo, Pan Card, Name and Address Proof, Bank account Details, KYC Compliance)


#1. Online(ऑनलाइन के माध्यम से)

यदि आप खुद ही म्यूच्यूअल फंड्स  चयन कर सकते हैं या फिर आपके मित्रों ने आपको सुझाव दिया है तो ये आपके लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है. इसका एक मुख्य फायदा ये है की आप सीधे MF AMC(Mutual fund Asset Management company) के साथ जुड़ सकते हैं और ऐसा करने पर आपसे किसी तरह का कमीशन नहीं लिया जायेगा.

Step 1 - वेबसाइट पर जाएं और ऑनलाइन लेनदेन सेवाओं के लिए पंजीकरण करें। सभी आवश्यक जानकारी जैसे नाम, ईमेल, फोन नंबर,D.O.B, पता, पैन नंबर आदि प्रदान करें.

Step 2 - इसके बाद एक F-Pin generated किया जायेगा जिसे आपके Email-Id औरे Registered Mobile नंबर पर भेजा जायेगा.

Step 3 - इस F-Pin का उपयोग करके आप अपना यूजर आईडी और पासवर्ड(User Id and Password) बना सकते हैं.

Step 4 - User Id और पासवर्ड की मदद से Login करें इसके बाद आप निवेश करना शुरू कर सकते हैं.

#2. Online Mutual Funds खरीदने की Websites

  • Karvy Online
  • ICICI Prudential

#3. Offline निवेश करना (आवेदन पत्र के माध्यम से)


Step 1-  म्यूचुअल फंड के एजेंट या Distributor से Contact करें।

Step 2- अपना  Application Form प्राप्त करें।

Step 3- अपनी सभी आवश्यक जानकारी प्रदान करने के लिए आवेदन पत्र को सही सही  भरें, अर्थात नाम, पता, पैन, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर आदि। आपके द्वारा दी गयी Email Id और Mobile No.का उपयोग Communication और ऑनलाइन लेनदेन सेवाओं के लिए भी Use किया जा सकता है।

Step 4- Application Form के साथ सभी Relevant Documents की प्रतियां संलग्न करें और जितने भी Amount का आप निवेश करना चाहते हैं उतने ही AMount का एक Cheque या Demand Draft भी फॉर्म के साथ सबमिट करें.

Step 5- अगर आप किसी एजेंट या distributor के माध्यम से आवेदन करते हैं, तो वे खुद ही आवेदन पत्र और सभी प्रासंगिक documentsको  Cheque के साथ  म्यूचुअल फंड कंपनी में जमा करेंगे।

Step 6- इसके बाद म्यूचुअल फंड कंपनी आपको Investment करने के लिए एक फ़ोलियो नंबर(Folio No)देगी  और आपको एक Account Statement जारी करेगी.

≻ सेंसेक्स क्या होता है 
≻ निफ़्टी क्या है 

#5. Kyc क्या है?

1 जनवरी, 2011 से SEBI के नियम के अनुसार, जो लोग म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं वे अपने-ग्राहक (KYC) मानदंडों के अनुरूप होने चाहिए, चाहे वो कितना भी निवेश कर रहे हैं. इसका मतलब है की आप तब तक किसी Mutual Fund को नहीं खरीद सकते जब तक आप Mutual Fund KYC के अनुरूप नहीं हो जाते.

इसलिए म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश करने से पहले आपको अपनी KYC  प्राप्त करनी होगी जिसे आप Broker  या Fund  management  Company  से प्राप्त  कर सकते हैं.

मुझे उम्मीद है की अब आपको समझ आ गया होगा की म्यूच्यूअल फंड्स क्या है  Mutual Funds In Hindi.अगर अभी भी आपके मन में Mutual  Fund  से जुड़ा कोई भी सवाल है तो कमेंट के माध्यम से जरूर पूछे। और मेरा आपसे निवेदन है की इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा Social  Media  और अपने मित्रों तक शेयर करके जरूर पहुंचाए।


निफ्टी क्या है- What is Nifty In Hindi



निफ़्टी(Nifty) क्या है (What is Nifty In Hindi), निफ़्टी और सेंसेक्स में क्या अंतर है-:
अक्सर हम newspaper, tv, Internet पर देखते हैं कि आज ससेंसेक्स इतने अंक पर रहा, कम रहा, ज्यादा रहा आदि। जब भी शेयर बाजार की बात की जाती है तो सेंसेक्स के साथ साथ Nifty का नाम जरूर लिया जाता है । सेंसेक्स की तरह निफ्टी के कम ज्यादा होने के खबरें भी सुनने को मिलती है, लेकिन बहुत कम लोग ऐसे हैं जिन्हें इसके बारे में पता है इसलिए आज में आपको बताऊंगा की निफ़्टी क्या  है?

what is nifty in hindi

# 1 . निफ़्टी क्या है?What is Nifty In Hindi

Nifty , National Stock Exchange Fifty का संक्षिप्त रूप( Short Form)  है. ये नेशनल और फिफ्टी (National and Fifty )शब्दों(words) को मिलाकर बनाया गया है.  निफ़्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर सूचिबद्ध(Listed) 50 मुख्य शेयरों का Index है। निफ़्टी भारत का सबसे ज्यादा ट्रेड(Trade) किया जाने वाला Stock Index है और इसे 1993 में शुरू किया गया था.

Nifty को Naitional और Fifty दोनों शब्दों को मिलाकर बनाया गया है इसका मतलब है कि निफ्टी शब्द, National Stock Exchange पर Listed  50 Top  Company शेयर्स पर आधारित है.  और
निफ़्टी भी सेंसेक्स की ही तरह होता है, इससे पता चलता है कि बाजार और उन 50 कंपनियों का हाल क्या है। अगर निफ्टी में तेज़ी है तो इसका मतलब बाजार में भी तेजी है और कंपनी को लाभ (profit) रहा है अगर निफ़्टी में गिरावट है तो इसका मतलब है कि बाजार में भी गिरावट या कंपनी में भी मंदी(loss) चल रही है। 

पिछली पोस्ट में मैंने आपको बताया था कि सेंसेक्स क्या होता है और ये कैसे काम करता है? जिस तरह से सेंसेक्स 30 शेयरों पर आधारित(based) है ठीक उसी तरह से निफ़्टी 50 शेयरों पर Based है ये सभी shares 12 अलग-अलग Sector के उद्योगों से चुने गए हैं


# 2 . Nifty कैसे काम करता है? इससे हमें क्या जानकारी मिलती है?

निफ़्टी का मुख्य कार्य इसमे सूचीबद्ध 50 कंपनियो और बाज़ार(Market) के बारे में जानकारी देने का है।इससे पता चलता है कि कंपनी किस तरह काम कर रही है, अगर कंपनी को मुनाफा हो रहा होता है तो कंपनी के शेयर्स के भाव भी बढ़ जाते हैं. और जब भी किसी  सूचिबद्ध(listed) कंपनी के शेयर्स के भाव बढ़ते हैं तो निफ्टी में भी उछाल या तेज़ी आ जाती है।

# 3 . Nifty कैसे बनता है?

निफ़्टी National Stock Exchange का एक मुख्य Benchmark Index है. निफ़्टी कैसे बनता है और इसको calculate कैसे किया है?

Nifty सिर्फ 50 कंपनियो के शेयर्स के भाव पर आधारित होता है जबकि NSE में लगभग 1,600 से ज्यादा कंपनी के शेयर्स सुचिवद्ध होते हैं। और इन कंपनियों को चुनने का काम NSE की Index कमिटी का होता है, और इसमें बैंक, सरकार, और अर्थशास्त्री को शामिल किया जाता है.

जिन कंपनियों के शेयर्स सबसे ज्यादा खरीदे और बेचे जाते हैं, अपने Sector की सबसे बड़ी कंपनी हो, और जिनका Market Capitalisation पूरे बाज़ार का 60% तक हो , उन्ही कंपनियों को Top 50 में शामिल किया जाता है।


# 4 . Nifty और सेंसेक्स में मुख्य अंतर?

अगर देखा जाए तो निफ़्टी और सेंसेक्स की कार्यप्रणाली लगभग (Almost) समान है लेकिन फिर भी इन दोनों में काफी अंतर(difference) है जैसे कि-:

〉  Bitcoin Kya Hai.

1. Nifty , National Stock Exchange  का बेंचमार्क Index है जबकि सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज(Bombay Stock Exchange) का Index है। 

2. NSE में Top 50 कंपनियों के शेयर्स को listed किया गया है जबकि BSE में top 30 कंपनियो के Shares को Listed किया गया है। 

3. NSE में कुल 1600 से अधिक कंपनियां शामिल है जबकि BSE में लगभग 5000 से ज्यादा कंपनियाँ शामिल हैं।

4. Sensex का base year 1978-1979 है और इसकी base value 100 है जबकि निफ़्टी का Base year 1995 और इसकी base value 1000 पर सेट की गई है.



# 5 . Nifty में सूचीबद्ध (Listed ) Top 50 कंपनियां -: [ January 2018 Updated ]

Source - Wikipedia 
Company
Adani Ports & SEZ Limited
Symbol

ADANIPORTS
Sector

Infrastructure
Ambuja Cements Ltd.AMBUJACEMCement
Asian Paints LtdASIANPAINTManufacturing
Aurobindo Pharma Ltd.AUROPHARMAPharmaceuticals
Axis Bank Ltd.AXISBANKBanking
Bajaj Auto Ltd.BAJAJ-AUTOAutomobiles
Bajaj Finance LtdBAJFINANCEFinancial Services
Bharti Airtel Ltd.BHARTIARTLTelecommunications
Bharti InfratelINFRATELTelecommunications
Bosch Ltd.BOSCHLTDManufacturing
BPCLBPCLOil & Gas
Cipla Ltd.CIPLAPharmaceuticals
Coal India Ltd.COALINDIAMetals & Mining
Dr. Reddy's Laboratories Ltd.DRREDDYPharmaceuticals
Eicher MotorsEICHERMOTAutomobiles
GAIL (India) Ltd.GAILOil & Gas
HCL Technologies Ltd.HCLTECHInformation Technology
HDFC Ltd.HDFCFinancial Services
HDFC Bank Ltd.HDFCBANKBanking
Hero MotoCorp Ltd.HEROMOTOCOAutomobiles
Hindalco Industries Ltd.HINDALCOMetals & Mining
Hindustan Unilever Ltd.HINDUNILVRConsumer Goods
HPCLHPCLOil & Gas
ICICI Bank Ltd.ICICIBANKBanking
Indiabulls Housing FinanceIBULHSGFINFinancial Services
IndusInd Bank Ltd.INDUSINDBKBanking
Infosys Ltd.INFYInformation Technology
IOCIOCOil & Gas
ITC LimitedITCConsumer Goods
Kotak Mahindra Bank Ltd.KOTAKBANKBanking
Larsen & Toubro Ltd.LTInfrastructure
Lupin LimitedLUPINPharmaceuticals
Mahindra & Mahindra Ltd.M&MAutomobiles
Maruti Suzuki India Ltd.MARUTIAutomobiles
NTPC LimitedNTPCElectric Utility
ONGC Ltd.ONGCOil & Gas
PowerGrid Corporation of India Ltd.POWERGRIDElectric Utility
Reliance Industries Ltd.RELIANCEOil & Gas
State Bank of IndiaSBINBanking
Sun Pharmaceutical Industries Ltd.SUNPHARMAPharmaceuticals
Tata Consultancy Services Ltd.TCSInformation Technology
Tata Motors Ltd.TATAMOTORSAutomobiles
Tata Power Co. Ltd.TATAPOWERElectric Utility
Tata Steel Ltd.TATASTEELMetals & Mining
Tech Mahindra Ltd.TECHMInformation Technology
UltraTech Cement Ltd.ULTRACEMCOCement
United Phosphorous  UPLChemicals
Vedanta Ltd.VEDLMetals & Mining
WiproWIPROInformation Technology
Yes Bank Ltd.YESBANKBanking
Zee Entertainment Enterprises Ltd.ZEELMedia & Entertainment

# 6 . Nifty के कुछ प्रमुख फायदे?

1. Nifty के द्वारा NSE(National Stock Exchange) के बारे में पता चल जाता है.

2. बाज़ार में और सूचीबद्ध कंपनियों में होने वाले लाभ और मंदी की जानकारी मिल जाती है.

3. Nifty के द्वारा हम देश की अर्थव्यवस्था कैसी है उसका अनुमान लगा सकते हैं.

4. यदि निफ्टी  में सूचीबद्ध कंपनियों के शेयर्स के भाव बढ़ते है तो उन कंपनियों में  रोजगार के Chances भी बढ़ जाते हैं.

तो ये थी हमारी आज की पोस्ट जिसमे मैंने आपको बताया की निफ़्टी क्या है(What is  Nifty In Hindi)  और  कैसे काम करता है.मुझे उम्मीद है की आपको ये Artical  पसंद आया होगा। इसलिए Artical को social media पर शेयर जरूर करे.



सेंसेक्स क्या होता है? सेंसेक्स कैसे काम करता है



सेंसेक्स क्या होता है-What is sensex in हिंदी- क्या आपने कभी Share market में पैसे निवेश करने के बारे में सोच है?अगर हां तो आपने सबसे पहले सेंसेक्स के बारे में भी जरूर सुना होगा। समान्यतः आपने Tv, Newspaper में सेंसेक्स शब्द को जरूर देखा होगा और इसके बारे में सुना होगा। sensex के बारे में एक मुख्य news  होती है कि आज यह इतने number से बढ़ गया या फिर घट गया, लेकिन बहुत से लोग इस बारे में समझ नही पाते कि आखिर ये चीज़ है क्या। इसीलिए आज मैं आपको बताऊंगा की सेंसेक्स क्या होता है और इसका क्या काम है।

सेंसेक्स क्या होता है

#1. सेंसेक्स क्या होता है ? Sensex Kya Hota hai-:

Sensex , Sensitive Index का ही संक्षित रूप है, मुम्बई स्टॉक एक्सचेंज( Mumbai Stock Exchange )जिसे बीएसई 30 या BSE Sensex भी कहते हैं। समान्यतः Sensex हमारे Indian Market का Benchmark इंडेक्स(Index) है और ये BSE बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में उपस्थित शेयर्स के भाव मे होने वाली तेज़ी और मंदी को दर्शाता है।
अगर बात की जाए Sensex की तो ये हमारे भारत का सबसे पुराना Stock Index है और इसकी स्थापना 1986 में हुई थी।

≻ Ghar Baithe Paise Kaise Kamaye
≻ Google Se Paise Kaise Kamaye.

Stock market Index का काम ये होता है कि ये Stock market में सूचिबद्ध( listed ) सभी शेयर्स के भाव की जानकारी लेता है और एक Average value( औसत मूल्य) प्रदर्षित करता है। ताकि लोगो को उस स्टॉकमाकेर्ट (stockmarket ) के सभी शेयर्स के भाव मे होने वाले तेज़ी और मंदी के बारे में पता चलता रहे।

#2.  Sensex क्या जानकारी देता है?

सेंसेक्स हमे बताता है कि जिस Company के shares BSE में सुचिवद्ध है वो कंपनी किस तरह से काम कर रही है। अगर कंपनी अच्छा लाभ कमा रही है तो Company के शेयर भाव बढ़ जाते हैं जिससे sensex में भी तेजी आ जाती है। निफ़्टी  क्या है 

दूसरे शब्दो मे कहे तो अगर sensex में तेज़ी आ रही तो इसका मतलब है कि Company अच्छा लाभ कमा रही है और अगर Sensex में गिरावट आ रही है तो इसका मतलब है कि Company को कम लाभ हो रहा है।
Sensex के आधार पर ही हम ये जान सकते हैं कि देश की अर्थव्यवस्था केसी काम कर रही है।


#3. Sensex कैसे बनता है?

हम जान चुके हैं कि सेंसेक्स , Bombay Stock Exchange(बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) ka इंडेक्स है अब हम बात करते हैं कि sensex कैसे बनता है और इसकी गणना(calculate) कैसे की जाती है।
जैसे कि मैंने पहले भी बताया था कि सेंसेक्स BSE  में सूचिबद्ध 30 कंपनियों के शेयर्स के भावों को मिलाकर बनता है जबकि BSE में लगभग 7000 कंपनिया शामिल है। अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्यों?
क्योंकि-:
  • इन 30 कंपनियों के शेयर्स सबसे ज्यादा खरीदे और बेचे जाते हैं।
  • ये 30 कंपनिया 13 अलग अलग  इंडस्ट्रीज(industries ) से चुनी जाती है और ये कंपनियां अपने क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी होती है।
  • इन 30 कंपनियों को चुनने का काम BSE की Index कमिटी द्वारा किया जाता है।


#4. इन कंपनियों का चुनाव किस आधार पर किया जाता है?

  • Top 30 में शामिल होने के लिए कंपनियो का इन शर्तों को पूरा करना अनिवार्य होता है।
  • कंपनी कम से कम 1 वर्ष से share market में पंजीकृत(registered) होनी चाहिए।
  • कंपनी के शेयर प्रतिदिन खरीदे और बेचे जाते हो।
  • प्रतिदिन के ट्रेड और वैल्यू के हिसाब से कंपनी देश की सबसे बड़ी कंपनियो में शामिल होनी चाहिए।
  • कंपनी का Market Capitalistaion Weightage अच्छा होना चाहिए।


#5. Market Capitalisation क्या है ?

मार्केट capitalisation किसी भी कंपनी के मौजूदा शेयर की कीमत और बकाया शेयरों की कुल संख्या के आधार पर किया गया उस कंपनी का कुल मूल्यांकन होता है।
Market Capitalisation-: कंपनी के मौजूदा शेयर्स × कंपनी के बकाया शेयर्स। 

किसी भी शेयर की महत्वपूर्ण विशेषताओ में मार्किट Capitalisation महत्वपूर्ण होती है। इसी के आधार पर निवेसक return और Share में होने वाले जोखिम को निर्धारित कर पाते हैं।

≻  Eadhaar Card Kya Hai ise Download Kaise Kare

उदहारण के लिए यदि किसी कंपनी के पास 5 करोड़ बकाया शेयर हैं और सभी शेयर का मौजूदा बाजार मूल्य 100रुपये है तो कंपनी का Market Capitalisation 500,00,000×100= 500 करोड़ रुपये होगा।
मार्किट कैपिटलाइजेशन के आधार पर ही निवेसक ये तय कर पाते हैं कि किसी शेयर पर निवेश करने से उन्हें कितना रिटर्न मिल सकता है और कितना रिस्क हो सकता है।

#6. Sensex का हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है?

मैंने आपको पहले भी बताया कि Sensex के आधार पर ही हमारी देश की अर्थव्यवस्था पर प्रभाव पड़ता है जिसका सीधा असर हमारी रोजमर्रा की जिंदगी पर पड़ता है। यानिकि की अगर Sensex बढ़ेगा तो हमे भी इसका फायदा होगा लेकिन सेंसेक्स घटेगा तो इसका प्रभाव हम पर भी पड़ेगा।
सेंसेक्स के बढ़ने से होने वाले फायदे-
Sensex के बढ़ने से सबसे पहले कंपनियो और उनके निवेशको(share holders) को फायदा होता है और साथ ही  देश की अर्थव्यवस्था में भी सुधार दिखने को मिलता है जिससे आम लोगो को फायदा मिलता है-:

-: SENSEX के बढ़ने का मतलब है कि किसी कंपनी को फायदा होना, और जब कंपनी को फायदा होता ही तो उसके शेयर खरीददारों की संख्या भी बढ़ जाती है जिससे कि कंपनी के शेयर के भाव भी बढ़ जाते हैं और कंपनी के पास बहुत सारी पूंजी जमा हो जाती है ऐसे में कंपनी का विकास होना तो तय होता है और कंपनिया अपने कार्य करने की क्षमता को बढ़ा देती है जिससे लोगो को रोजगार के अवसर मिल जाते हैं।

〉  Bitcoin Kya Hai.

-: Sensex में बढ़ोतरी होने के कारण विदेशो से भी निवेशक(Investers) शेयर खरीदते हैं। जिसका असर(Effect) हमारी मुद्रा(Currency) पर होता है और रुपया(Indian Rupee) विदेशी मुद्राओ की अपेक्षा में अधिक मजबूत हो जाता है।


#7. BSE  की टॉप 30 Stock कंपनिया कोनसी हैं?

  • Tata Consultancy Services Ltd.
  • Reliance Industries Ltd.
  • HDFC bank Ltd.
  • ITC Ltd.
  • Hindustan Unilever Ltd.
  • Maruti Suzuki India Ltd.
  • State Bank Of India.
  • ONGC Ltd.
  • Infosys Ltd.
  • ICICI Bank ltd.
  • Kotak Mahindra Bank ltd.
  • Larsen and Turbo ltd.
  • Indian oil Corporation ltd.
  • Coal india ltd.
  • Bharti Airtel ltd.
  • Axis bank Ltd.
  • Wipro Ltd.
  • NTPC ltd.
  • Sun Pharmaceuticals Industries ltd.
  • Hcl Technologies ltd.
  • Hindustan Zinc ltd.
  • Vedanta Limited.
  • Ultratech Cement ltd.
  • Tata Motors ltd.
  • Asian Pants ltd.
  • Indusind Bank Ltd.
  • Bharat Petroleum Corporation.
  • Power Grid Corporation Of India Ltd.
  • Bajaj Auto Ltd.
  • Bajaj Finance ltd.

#. निष्कर्ष

अगर हम सरल भाषा मे कहे तो सेंसेक्स का काम ये मापने(Measure) का  होता है कि India के बड़े Stocks किस तरह से Move कर रहे हैं।अगर sensex आज 1% बढ़ता है तो इसका मतलब हुआ कि India के Top30 स्टॉक्स(Stocks) की Value 1% ज्यादा हो चुकी है, और ये सब Top30 कंपनियों के Stock price  के औसत से पता चलता है। अगर 1 साल में सेंसेक्स 10% आगे बढ़ा है तो मतलब है कि औसत निवेसको(Investors) को 10% लाभ हुआ है।

July 1990 में Bombay सेंसेक्स नंबर 1000 था और आज ये 36000 के आसपास है ,इसका मतलब है कि 1990 में औसत स्टॉक निवेश(Average Stock Investment) 28 साल बाद 36 गुना बढ़ चुका है। 

मुझे उम्मीद है कि आप जान चुके होंगे कि सेंसेक्स क्या होता है और ये कैसे काम करता है । अगर आपका इससे संबंधित कोई भी सवाल है तो आप हमसे comment में पूछ सकते हैं एयर अगर आपको पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर करना मत भूलियेगा।


E-aadhar Kya hai? ई आधार कार्ड डाउनलोड कैसे करे |


ई आधार कार्ड क्या है ,ई आधार कार्ड डाउनलोड कैसे करे-:
World me aaj bahut si Countries apne Citizens ki Identity ke  liye ek Unique Indentity System ka use karte hain jiske अंतर्गत  Har ek Citizen ko ek Identity Unique Number provide kiya jata hai.Govt. Of India ne bhi 2009 me Kuch isi tarah ka System launch kiya  jise Aadhaar Ka Name diya gaya hai.Aur iske अंतर्गत  sabhi Citizens ke liye ek Unique Number provide kiya जाता है  jise Aadhaar Number bhi kehte hain.Is project ko Unique Identification Authority Of India(UIDAI)  Run(चलाती ) kar rahi hai jise January 2009 me Launch kiya gaya tha.

Is Program ko Shuru karne ka maksad(मकसद) ye tha ki sabhi  Citizen ko ek Unique Number Provide kiya jaye taaki Har ek Citizen ki पहचान  ki  ja sake and Unhe Government ki Sabhi Schemes ke benefits  Provide kiye  ja sake.

is unique Identity ke antargat ek 12 Digit ka Aadhaar Number and Aadhar Card Issue kiya jata hai.Aap iska Use Identity, Address Proof aur अन्य  Service Bank Account, Pensione schemes, Sim card se Bhi Link kar sakte hain jo ab अनिवार्य  ho chuka hai.

≻ Ghar Baithe Paise Kaise Kamaye
≻ Google Se Paise Kaise Kamaye.

Aadhaar Card ko ek Digital Form(रूप ) me laane ke liye UIDAI ne ek Other Service launch ki hai jiske अंतर्गत ab Koi bhi व्यक्ति Apne Aadhar ko Online hi Download kar sakta hai jise E-aadhar ka name diya gaya hai.Aaj me aapko bataunga ki ई आधार कार्ड डाउनलोड कैसे करे . 


ई आधार कार्ड

#1. E-Aadhar card Kya Hai?(ई आधार कार्ड )

E-Aadhaar  ,Aadhaar card ka ek Electronic रूप hai  aur ye Aadhaar card ki hi tarah Valid and Equivalent(समान) है।
UIDAI E-Aadhar portal ke सहायता se koi bhi Individual(व्यक्ति) apne Aadhaar letter ko kuch simple Steps me Online hi Download kar sakta hai. Agar aapne  Aadhaar Card ke liye Enrollment/Apply kiya hai and Apne Aadhaar letter ka wait kar rahe hain to Aap apna Letter Online E-Portal Site se Download kar sakte hain aur kabhi bhi Printout Nikal sakte hain.
Jab aapne Aadhaar Card ke liye Enrolment kiya hoga to us समय Enrolment Center se aapko ek Acknowledgement Slip mila hoga jisme Kuch Important Details-: Apply karne ki Exact Date aur Time, Enrollment Number, rehti hain.Inhi details ki help se aap apna Eaadhaar Download kar sakte hain.

#2. E-Aadhaar Me Kosni Informations(जानकारियाँ ) Hoti Hain?

  • Aadhaar Number
  • Cardholder Ka Photograph
  • Name

#3. E-Adhaar Card Download Kaise Kare-: 

E-Aadhar download karte समय आपको in Details ki Jaroort padegi.
1. Enrolment Number(14 digit)  or
2. Enrolment Karane ka Exact Time and Date( Apni Acknowledgement Slip me check kare)
3. Aadhaar No.
4. Resident(निवास स्थान)
5. Pin Code. 

#4. इ आधार कार्ड  ko Download Karne ke liye aapko ye Steps Follow karne Honge-:

Step1-:
  • E-Aadhaar Download karne ke Liye yaha Click Kare
  • 14 Digit ka Enrolment No., Date and Time Enter kare.
  • Apna Full name Enter Kare.
  • Apne Area ka Pin Code enter kare jo aapne Card apply karte Samay Register kiya hai.
  • Image me Show Ho rahe Correct text ko Box me enter kare.
  • Get One Time Password Par Click Kare.( OTP aapke Registered Mobile No. par Recieve Hoga)
  • Agar aap apna Aadhaar Number jaante hain to Aadhaar Vale Box ko Select kare and First box me  Apna 12 Digit ka Aadhaar No. Enter kare. Other Boxes me same detail Bharni hai jo Upar batayi gayi hai.
≻ Internet Kya hai?
≻ Facebook Like kaise Badhaye?

Step2-:
  • One Time Password Receive ho jane ke baad  Apna OTP Enter Kare.
  • Validate and Download Par Click kare.
Aadhar card Download

  • Download karne par aapka E-Aadhaar letter PDF file ke रूप me Download ho jayega.
#. Very Important Note-: Jab aap PDF file ko open karenge to aapse Password enter karne ko kaha jayega, Pehle Is PDF file ko Apne Area pin Code se Download kiya jata tha but ab UIDAI ne is Process ko change kar diya hai.

Pdf File ko open karne ke liye ap 8Character ka Password use kya jayega.Jo aapke Name ke Starting (शुरू के )ke 4 Letter Capital me(बड़े अक्षरों में ) aur Aapka Birth Of Year(जन्म का साल ) hoga.

Example- Agar aapka Name- Amit Kumar aur Year Of Birth- 1997 hai. To aapka Password is tarah se hoga.
Password-AMIT1997


eaadhar kya hai


≻ 2018 Ke Top 5 Smartphones Under 15,000
≻ JIO 4G ki Speed Kaise badhaye

#5. E-Aadhar Card Ke Benefits(फायदे )

  • E-Aadhar ek Electronic card hai jo har samay Online Available hai, Aap isko Sirf Ek baar Download Karke har samay use kar sakte hain.
  • Iska use Identity, Address Proof aur bhi Bahut se Documents me kiya ja sakta hai.
  • Kisi bhi tarah ka Document, Driving License, Passport ke liye aap iska use kar sakte hain.
  • Aadhar Card ke Dwara aap apna Bank Account bhi Open kar sakte hain.
  • E-Aadhar portal se aap Kabhi bhi apna E-Aadhaar letter download or printout kar sakte hain.But aapko is process ho pura karne ke liye  upar Batayi hui 4 Information apne pass rakhni hogi.Jabse E-Aadhar orignal Aadhaar Card ki tarah Valid(मान्य) and Equivalent (समान) hua hai isliye koi bhi व्यक्ति ab E-Aadhar ko apni Id, Address proof ke liye kabhi bhi aur Kahi Bhi use kar sakte hain.

#6. FAQs In Hindi( इ आधार कार्ड से सम्बंधित सवाल जवाब )


1. Kya Ye Identity Proof Ke Liye Valid Hai?
Ans. EAadhar sabhi Legal Documents ke liye valid(मान्य ) hai.Aur ye bhi Aadhaar Card ke Equivalent (समान ) hi hai.

2. Kya Ise Download Karne me Paise Lagte hain?
Ans. Nahi, Aap ise UIDAI ki website se kabhi bhi Freee me Download kar sakte hain.

3. E-aadhar Card me kitne Numbers hote hain?
Ans. Aapke Aadhar and EAadhar me same 12Digit ka number hota hai.Jo aapki main identity hoti hai.

4. Agar आधार कार्ड  खो jaye to Kya Kare?
Ans. Is Condition me(स्तिथि में ) aap EAadhar Portal se apna Aadhar Download kar sakte hain.

Mujhe उम्मीद hai ki Ab aap Samajh gaye honge ki ई आधार कार्ड क्या है और इसे डाउनलोड कैसे करें। Agar aapka is Post se Related koi bhi Sawal ho to hame Comment me puch sakte hain.



Subscribe Now

Subscribe to my Newsletter