KYC kya hai ? What is KYC in hindi

KYC kya hai ? What is KYC in hindi Admin 5 of 5
आज में आपको बताऊंगा की KYC kya hai - what is KYC in hindi KYC (Know your customer) का ही एक संक्षिप्त रूप है।वर्तमान में भारतीय रिजर्व ...

आज में आपको बताऊंगा की KYC kya hai - what is KYC in hindi KYC (Know your customer) का ही एक संक्षिप्त रूप है।वर्तमान में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारत में काम कर रहे सभी बैंकों को नियंत्रित करता है। RBI के मुताबिक सभी बैंकों को kyc लागु करना अनिवार्य है। Kyc को RBI ने Money Laundring की रोकथाम के लिए शुरू किया है।

kyc kya hai


#1. KYC kya hai? What is kyc in Hindi

KYc यानिकि Know your Customer का नाम आपने किसी banking या financial  से संबंधित क्षेत्र में जरूर सुना होगा। kyc एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा banks अपने customers की indentity(पहचान) और address(पता) से संबंधित जानकारियां प्राप्त करते हैं।Kyc के द्वारा यह बात सुनिश्चित की जाती है कि customer के द्वारा बैंक की सेवाओं(Services) का दुरुपयोग(missused) नही किया जा रहा।किसी भी बैंक में केवाईसी प्रक्रिया नया खाता खुलवाने के दौरान ही पूरी कर दी जाती है और साथ ही banks समय समय पर अपने customer की kyc detail को update karte रहते हैं।

#3. e-KYC क्या है?

E-kyc का मतलब है electronic-kyc  ये एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे digital तरीके से आपकी details को verify  किया जाता है। E-kyc प्रक्रिया में आधार कार्ड के अहम भूमिका निभाता है या यूं कहें कि जिनके पास आधार कार्ड है सिर्फ वो ही लोग e-kyc सेवा का उपयोग कर सकते हैं।

UIDAI ने कुछ इस प्रकार का system तैयार किया है जिसके द्वारा कोई भी user अपने आधार कार्ड नंबर से ही अपनी KYC जैसी details को verify कर सकता है जिसके लिए phone नंबर या Biometric(fingr print) की जरूरत पड़ती है.e-KYC के लिए भी आपको किसी दस्तावेज़ की जरूरत नहीं पड़ती बल्कि आपको अपने aadhaar number को provide करना होता है और फिर आपके registered mobile number पर otp भेजकर या फिर finger print के द्वारा आपकी identity को verify किया जाता है। Identity verify होने के बाद UIDAI आपकी kyc details(name , gender, photograph, age address) को digital रूप में आपके bank को transfer कर देता है। e-KYC प्रक्रिया को PML(Prevention of money laundering) rule के तहत valid घोषित किया गया है.

#4. किसी बैंक में खाता खोलने के लिए KYC requirments क्या हैं?

किसी भी बैंक में account खोलने के लिए ग्राहक को एक पहचान पत्र(Proof of identity) और proof of address के साथ अपनी कुछ हाल ही में खिंचवाई गयी photos की जरूरत होती है।

#5. Proof of Identity और Proof of address के लिए कोनसे documents valid हैं?

भारत सरकार ने 6 documents (Passport, Voter id, PAN card, Aadhaar card, Driving license, NREGA job card )  को Proof of identity  के लिए Official valid documents घोषित किया है और यदि इन documents में आपका Address भी मौजूद है तो आप इन्हें Address proof के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं और अगर इन पर आपका address मौजूद नही है तो आप किसी अन्य document (जिस पर आपका पता मौजूद हो) को address proof के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

#6. Paytm KYC क्या है ?

जब  भी आप एक paytm account के लिए signup करते हैं तो आपका एक paytm wallet create किया जाता है और RBI के नियमनुसार उस wallet के द्वारा आप  हर महीने सिर्फ 20,000 रूपए तक का लेन देन( Transaction) कर सकते हैं।
  • ये भीपढ़ें-  social मीडिया क्या है.
  • इस limit को बढाने या wallet को free में upgrade करने के लिए हमें Paytm KYC करवानी होती है ताकि हम महीने में 20,000 रूपए से अधिक का transaction कर सकें। paytm KYC करवाने से आपको निम्न फायदे होंगे-
  1. No spending limit
  2. Special offers and more cashbacks
  3. आप आना Paytm payment bank खोल सकते हैं जिसके लिए आपको एक digital Debit card भी provide किया जायेगा जिससे आप कोई भी online payment या transaction कर सकते हैं।

Paytm KYC customer बनने के लिए आपको KYC करवानी होगी जिसके लिए आपको अपना Proof of identity और Proof of address verified करवाना होगा। paytm केवाईसी करने के तरीके-:
  • अपने paytm account या app को open करें और अपनी Top right corner पर  profile को open करें।
  • Profile section में "Request wallet upgrade" पर क्लिक करें।
  • अब "Paytm KYC" को select करें। इसके बाद आपके सभी नजदीकी KYC centers की list open होगी।

-: Paytm KYC आप दो तरीके से कर सकते हैं.
1. अपने नजदीकी paytm KYC center में जाकर अपने documents verify करके( Aadhaar card and Pan card)
2. KYC agent को अपने घर या office में बुलाकर।

-: मुझे उम्मीद है की आब आप जान चुके होंगे की KYC kya hai - what is KYC in hindi. अगर आपका केवाईसी से सम्बंधित कोई भी अन्य सवाल है तो आप हमें कमेंट अथवा contact करके पूछ सकते हैं।  अगर आपको पोस्ट पसंद आई हो तो इसे share करना मत भूलियेगा। 

अपना आधार कार्ड चेक कैसे करें? Aadhaar card check karna hai 2018

अपना आधार कार्ड चेक कैसे करें? Aadhaar card check karna hai 2018 Admin 5 of 5
आज की इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की आप online या फिर offline अपना आधार कार्ड चेक या आधार कार्ड चेक करना है तो  कैसे कर सकते हैं? एक ब...

आज की इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की आप online या फिर offline अपना आधार कार्ड चेक या आधार कार्ड चेक करना है तो  कैसे कर सकते हैं? एक बार आपको आधार acknowledgment slip  मिलने के बाद, आप online या offline अपने आधार कार्ड की स्थिति देख सकते हैं। आपको अपनी UIDAI आधार स्थिति को track  करने के लिए सिर्फ अपना आधार enrollment number प्रदान करना होगी। नीचे मैंने कुछ तरीके बताएं हैं जिनसे आप आधार कार्ड चेक कर सकते हैं.UIDAI की official website पर जाकर कोई भी आवेदक अपने आधार कार्ड स्टेटस् को online चेक कर सकता है वो भी बिना किसी शुल्क या charge के। बस आपको निचे दिए गए steps को follow करना है।

#. अपना आधार कार्ड चेक करना है ? Aadhaar card status check in hindi 2018


Step 1: UIDAI की official website (https://uidai.gov.in/) पर जाएं।

Step 2: Aadhaar enrolment section में " Check aadhaar status" पर क्लिक करें. या फिर आप  इस link पर click करके भी check aadhaar status page पर जा सकते हैं https://resident.uidai.gov.in/check-aadhaar-status 

आधार कार्ड चेक


Step 3: अब यहाँ पर आपको अपनी आधार Enrolment id , enrolment की तारीख और समय , एवं Security code डालना है और फिर Check status पर click करें।

आधार कार्ड चेक


Step 4: अगर  आपका आधार बन चुका(generated)होगा , तो आपको इसके बारे में एक message मिलेगा और आपके ई-आधार कार्ड को ऑनलाइन डाउनलोड करने या इसे अपने registered मोबाइल नंबर पर प्राप्त करने के options मिलेंगे।

Step 5: अगर आप अपना ई-आधार डाउनलोड करना चाहते हैं, तो Download aadhaar  पर क्लिक करें।

Step 6: अगर आप अपने मोबाइल पर अपना आधार प्राप्त करना चाहते हैं, तो Get Aadhaar on Mobile पर क्लिक करें। आपके registered mobile नंबर पर आधार कार्ड भेज दिया जायेगा।

आधार कार्ड चेक


#2.  अपने mobile नंबर से आधार कार्ड स्टेटस् चेक कैसे करें?

आपको अपने मोबाइल पर आधार स्थिति की जांच करने के लिए इन steps को follow करना होगा:-

1. अपने registered mobile नंबर से इस sms को type करें “UID STATUS <14 digit enrolment number>” और 51969 पर भेजें।              
Note-: 14 digit enrolment number की जगह पर अपना enrolment नंबर लिखे।
Ex. UID STATUS 12345678912345    Send to 51969

2. अगर आधार कार्ड बन चुका है , तो  आपको आधार संख्या वाला एक sms प्राप्त होता है।
3. अगर आधार नहीं बना होगा , तो आपको आधार की वर्तमान स्थिति के साथ एक sms भेजा जायेगा।


#3. बिना Acknowledgement slip या Enrolment id के आधार कार्ड स्टेटस् कैसे चेक करें?

Verification process पूरी हो जाने बाद आपको एक acknowledgement slip दी जाती है जिसपर enrolment नंबर मौजूद होता है। लेकिन अगर किसी भी कारण से, वह slip खो जाये या क्षतिग्रस्त हो जाये, या फिर आप अपना  enrolment नंबर  भूल गए हैं , तो नीचे दिए गए steps को follow करके आप बिना slip के भी अपने आधार कार्ड स्टेटस् को चेक कर सकते हैं।

Step 1: सबसे पहले तो दी गयी link पर click करें। https://resident.uidai.gov.in/web/resident/find-uid-eid 

Step 2: अब यहाँ पर एक Form खुलेगा जिसमे आपको 2 options मिलेंगे।  1. Aadhaar number(UID) 
2. Enrolment Number(EID). हमें अपना  enrolment नंबर जानना है इसलिए हम enrolment number(EID) को select करेंगे।

Step 3: आपको कुछ details जैसे की - Full name , Email, Mobile आदि fill करने हैं।

Step 4: सभी details भरने के बाद screen पर दिखाई देने वाले  security code को fill करें।
Step 5: अब Send Otp पर क्लिक करें।

Step 6: Otp या तो email id या फिर मोबाइल नंबर पर प्राप्त किया जा सकता है। Enter Otp field में अपना otp enter करे।

Step 7: Verify Otp पर क्लिक करें।

आधार कार्ड चेक

Step 8:  Verification success हो जाने बाद आपके registered mobile नंबर या email id पर आपको अपना आधार enrolment number प्राप्त हो जायेगा। 
enrolment नंबर मिल जाने के बाद आप ऊपर दिए गए steps की मदद से अपना आधार कार्ड चेक कर सकते हैं।

अगर आपको भी अपना आधार कार्ड चेक करना है तो  मुझे उम्मीद है की ये पोस्ट आपके लिए जरूर helpful रही होगी। आपका इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो हमसे कमेंट अथवा हमें mail कर सकते हैं। अगर आपको हमारी पोस्ट आधार कार्ड चेक कैसे करे? पसंद आई हो तो हमें कमेंट कर के जरूर बताएं और साथ ही हमारी पोस्ट को share जरूर करें।

Business tips in hindi - बिजनेस करने के कुछ जरूरी टिप्स 2018

Business tips in hindi - बिजनेस करने के कुछ जरूरी टिप्स 2018 Admin 5 of 5
Business tips in hindi-: आप एक नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं? आज में आपको अपने व्यवसाय को सफल(Succesful) बनाने के लिए Top 8 business T...
Business tips in hindi-: आप एक नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं? आज में आपको अपने व्यवसाय को सफल(Succesful) बनाने के लिए Top 8 business Tips  के बारे में बताने वाला हूँ। आज के समय में internet पर बहुत सी ऐसीं websites और articals मोजूद हैं  जो किसी व्यवसाय को शुरू करने से लेकर सफल बनाने तक की Tips, तरीके और भी बहुत कुछ जरूरी बाते बताते रहते हैं। ये सभी Tips और तरीके किसी भी तरह के startups के लिए बहुत उपयोगी होते हैं क्युकी ये किसी व्यवसाय के शुरुआती चरणों को याद रखने में हमारी मदद करते हैं। लेकिन एक बात हमें हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए की इस तरह की tips सिर्फ हमें एक सही राह  दिखाने का काम करती है और हमें सही सुझाव देती हैं सफल होने के लिए हमें खुद काम करना होता है।


#. Business tips in hindi - बिजनेस करने के कुछ जरूरी टिप्स 2018

business tips in hindi

#1. अपने आप को जानें,कितना पैसा आप जोखिम ले सकते हैं, और आप Success होने के लिए क्या करना चाहते हैं?

निश्चित रूप से, सभी अपने व्यवसाय से लाखों रूपए कमाना चाहते हैं। लेकिन आप उस लक्ष्य तक पहुंचने के लिए क्या छोड़ने को तैयार हैं? आप एक हफ्ते या दिन में कितने घंटे काम करेंगे? आप अपने comfort Zone(आराम) से कितने दूर रहेंगे?आपका परिवार आपसे कितने दूर होगा आदि.? ये सभी बाते आपको एक व्यवसाय शुरू करने से पहले जरूर तय करनी चाहिए। सफल होने के लिए, अपनी व्यवसायिक योजनाओं को अपने व्यक्तिगत और पारिवारिक लक्ष्यों(personal and family goals) से अलग रखें।

#2. अपने लिए एक सही व्यवसाय का चयन करें। 

एक पुराना सफलता मन्त्र " एक आवश्यकता को ढूंढे और उसे भरे " अभी भी काम करता है. यानिकी सबसे पहले किसी ऐसीं चीज़ को ढूंढे जिसकी अधिक जरूरत हो और फिर उस जरूरत को पूरा करें कहने का मतलब है की एक ऐसा व्यवसाय चुने जिसकी बाज़ार में अधिक जरूरत/demand हो और फिर उन सभी demands/जरूरतों को व्यवसाय के माध्यम से पूरा करे ऐसा करने से आपको जरूर लाभ होगा। 
हमेशा यह सुनिश्चित(confirm) करें की जिस भी चीज़ को आप बेचने वाले हैं उसकी एक बेहतर market मौजूद हो क्युकी अगर ऐसा न हुआ तो आपको व्यवसाय में नुक्सान हो सकता है।


#3. सफल होने की योजना बनायें। 

यदि आप अपने व्यवसाय के लिए Investors(पैसा लगाने वाले ) की तलाश नहीं कर रहे हैं या अपने व्यवसाय में भारी धनराशि नहीं डाल रहे हैं, तो आपको एक लम्बे  business plan की आवश्यकता नहीं पड़ सकती , लेकिन आपको अभी भी एक plan(योजना) की आवश्यकता है - एक ऐसीं योजना जो आपके लक्ष्य (goal) और आपकी destination को specifie या निर्दिष्ट करेगी और आपको आगे बढ़ने में मदद करेगी। जैसे जैसे आप प्रगति करेंगे , अपने customers और Competition को और अच्छी तरह से जानेंगे तो आपकी योजनायें भी बदलती जाएगी और ये  योजनायें हमेशा आपको आपके लक्ष्य की तरफ ही केन्द्रित कर के रखेंगी।

#4. शुरू करने से पहले एक छोटे पैमाने(small scale) पर काम शुरू करें। 

कुछ लोग मानते हैं कि सभी  Entrepreneurs(उद्यमी) जोखिम लेने वाले होते हैं। लेकिन अधिकांश सफल entrepreneurs को अंधाधुंध चलना पसंद नहीं होता । इसके बजाए, वे Controlled risk(नियंत्रित जोखिम) लेते हैं। वे किसी भी idea को एक छोटे पैमाने पर test करते हैं और अगर योजना सफल हो जाये तो ही उसे बड़े पैमाने पर लेकर जाते हैं इसलिए किसी भी व्यवसाय को सीधे एक बड़े पैमाने पर शुरू करना जोखिंम भरा हो सकता है।

#5. गलतियों से आगे बढ़ना सीखें। 

सफल लोगों  और आम लोगों के बीच का मुख्य अंतर यह है की  सफल लोग अपनी गलतियों से सीखते हैं और आगे बढ़ते हैं। वे असफलता पर ध्यान नहीं देते ,न ही अपनी किस्मत या दुर्भाग्य को दोषी ठहराते हैं, और न ही अपने भाग्य के लिए दुसरे लोगों को दोष देते हैं। अगर उनके लक्ष्य का मार्ग Blocked(अवरुद्ध) है तो वो किसी दुसरे रस्ते की तलाश करते हैं या फिर कभी कभी एक अलग और अधिक प्राप्य (more attainable ) लक्ष्य को चुनते हैं।

#6. दूसरों से सीखें। 

अपने व्यवसाय से सम्बंधित लोगों से हमेशा संपर्क बनाकर रखें और उनसे कुछ न कुछ सीखते रहें। ऐसा करने के लिए आप उद्योग सम्मेलनों (industry conference), seminars में भाग लें, Experts के द्वारा Offered(पेश) किये गए Courses को खरीदें, यदि आपके आस पास कोई tranning course चल रहा हो तो उसमे जरूर भाग लें। दूसरों से सीखने का फायदा ये है की जब भी अपना व्यवसाय शुरू करेंगे तो उसमे किसी भी तरह की त्रुटी या गलती होने के chances बहुत कम हो जायेंगे।

#7. एक business के रूप में आप क्या करते हैं इसके बारे में सोचें।

अपनी Income और expenses(कमाई और खर्चे) को हमेशा ध्यान में रखें, business money को अपने personal खर्चे और funds से बिलकुल अलग रखें। यह पता करें व्यवसाय को आगे बढाने के लिए आपके व्यवसाय को किस नियमों का पालन करना है या करना चाहिए।

#8. कभी भी सीखना बंद न करें और नई चीजों को सीखने की कोशिश करें। 

जरूरी नहीं की जो चीज़ आज लाभदायक(profitable) है , वो ही चीज़ अगले वर्ष या अगले 10 सालों तक लाभदायक रहेगी। इसलिए कभी भी अपनेआप में ये न कहें की "मैंने हमेशा इसी तरह से काम किया है".हमेशा  नई चीजों के लिए अपनी आंखें और कान खुले रखें क्युकी जिस चीज़ पर आप काम कर रहे हैं वो हमेशा के लिए फायदेमंद नहीं है। इसलिए आपको हमेशा नई चीज़ों के लिए तैयार रहना चाहिए।

तो ये थी कुछ जरूरी business tips in hindi 2018 जिनकी मदद से आपको अपने व्यवसाय को आगे बढाने और सफल बनाने  में जरूर मदद मिलेगी। मुझे उम्मीद है आपको पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आपका पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमसे कमेंट कर के पूछ सकते हैं। अगर पोस्ट पसंद आई हो तो इसे share जरूर कीजियेगा।

Email id kaise banaye- complete guide in hindi 2018

Email id kaise banaye- complete guide in hindi 2018 Admin 5 of 5
आज की पोस्ट में हम जानेंगे की Email id kaise banaye? आज के समय में हर व्यक्ति के लिए email बहुत जरूरी हो चुका है इससे पहली पोस्ट में मै...

आज की पोस्ट में हम जानेंगे की Email id kaise banaye? आज के समय में हर व्यक्ति के लिए email बहुत जरूरी हो चुका है इससे पहली पोस्ट में मैंने बताया था की email क्या है और इसे कैसे use किया जाता है? ईमेल आज के समय की digital technology का एक अहम हिस्सा है।  पहले समय में किसी mail या message को postmail के माध्यम एक जगह से दूसरी जगह  भेजने के लिए जहाँ हमें महीनो तक इंतज़ार करना पड़ता था आज वो ही काम email की मदद से कुछ ही सेकंड्स में पूरा हो जाता है  और इसकी एक ख़ास बात ये है की हम email id के माध्यम से किसी message के साथ साथ digital files जैसे की images, videos, pdf, audio आदि। को भी भेज सकते हैं वो भी बिना किसी stamp या टिकट के क्युकी ये पूरी सेवा बिलकुल मुफ्त है इसके अलावा लगभग सभी online services को इस्तेमाल करने के लिए email id आवश्यक होती है।  किसी भी email का उपयोग करने के लिए हमें सबसे पहले एक email id की जरूरत होती है तो चलिए जानते हैं की ईमेल ईद कैसे बनाए? 

email id kaise banaye

#. Email id kaise banaye-: complete guide in hindi 2018

Communication के लिए आज की दुनिया में एक email id(ईमेल ईद) होना आवश्यक है। एक ईमेल id अपने users को अपने परिवार और दोस्तों के साथ बात चीत करने,रोजगार के लिए online resume भेजने, online shopping या bill भरने पर receipts(रसीद) प्राप्त करने और विभिन्न वेबसाइटों के साथ membership और खाते बनाने जैसे कार्यों की अनुमति देता है। इन्टरनेट पर बहुत से email service providers मोजूद हैं लेकिन में आपको  सबसे लोकप्रिय और मुफ्त email service provider  gmail(जीमेल) और yahoo  पर खुदकी email id बनाने के तरीके बताऊंगा। 

#1. Gmail Id कैसे बनाए?(जीमेल आईडी)

-: सबसे पहले तो mail.google.com पर जाएँ। 
-: अब Create an Account पर क्लिक करें। 

gmail id kaise banaye

अब यहाँ पर आपको एक form fill करना है। 
1. इन दो boxes में आपको अपना पूरा नाम डालना है. पहले वाले box में पहला नाम और दुसरे वाले में last name

2. यहाँ पर आपको अपना username लिखना है जैसे की- yourname123, yourname6565 आदि। 

3. यहाँ पर आपको अपनी email id के लिए एक strong password select करना है और confirm password वाले box में दुबारा से password enter करना है। 
4. अब next पर क्लिक कर दें। 

gmail id kaise banaye

5. इस box में आपको अपना mobile number add करना है. यह optional है लेकिन अगर mobile नंबर email id से linked होगा तो कभी भी password भूलने पर आप आसानी से अपना पासवर्ड recover कर सकते है। 

6. यहाँ पर आपको अपनी जन्म तिथि(date of birth) select करनी है। 
7. अपना gender select करें और next पर क्लिक करें. अब आपका जीमेल account बन चुका है। 

gmail id kaise banaye


#2. Yahoo mail कैसे बनाए?

1. सबसे पहले https://login.yahoo.com/account/create को open करे। 

2. Link को open करने बाद एक छोटा सा फॉर्म खुलेगा जिसमे आपको अपनी details जैसे की-name, username, phone number, D.O.B आदि  भरनी है.(जैसा मेने gmail के steps में बताया है) 

3. Details भरने के बाद Continue पर click करें। 

yahoo id kaise banaye


4. Continue करने के बाद आपको अपना mobile नंबर verify करना है इसलिए Text me An Account Key पर क्लिक करें।

5. क्लिक करने के बाद आपके mobile नंबर पर 5 अंको का एक नंबर भेजा जायेगा. उस नंबर को यहाँ पर डाले और verify पर क्लिक करे। 

yahoo id kaise banaye

6. Finally आपका yahoo mail account बन चुका है. Terms and condition box पर tick करें और continue पर क्लिक करें। 
yahoo id kaise banaye

-: मुझे उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट Email id kaise Banaye? पसंद आई होगी। अगर आपका email id से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। अगर पोस्ट पसंद आई हो तो इसे share जरूर कीजियेगा। 


ईमेल क्या है ? What is email in Hindi

ईमेल क्या है ? What is email in Hindi Admin 5 of 5
क्या आप जानते हैं कि Email kya hai? What is email in Hindi कुछ दशकों पहले तक एक जगह से दुसरीं जगह तक किसी संदेश को पहुंचाने के लिए महीनों...

क्या आप जानते हैं कि Email kya hai?What is email in Hindi कुछ दशकों पहले तक एक जगह से दुसरीं जगह तक किसी संदेश को पहुंचाने के लिए महीनों लग जाते थे क्योंकि उस समय मे किसी संदेश के आदान प्रदान के लिए पोस्ट या डाक ही एकमात्र option था। लेकिन आज के Modern जमाने और Modern Technology की बदौलत सैकड़ों काम कुछ चंद मिनटों में पूरे हो जाते हैं। इसी Modern Technology में शामिल है Email या Electronic mail जिसकी मदद से आज किसी भी Mail या सन्देश को बिना किसी डाक या पोस्ट के द्वारा भी अपने Phone या

Computer से ही दुनिया के किसी भी कोने में भेज सकते हैं और ख़ास बात ये है की डाक या Post की तरह किसी mail को भेजने के लिए आपको महीनों तक इंतज़ार नहीं करना पड़ता क्यूंकि ईमेल के द्वारा आप कुछ ही सेकंड में किसी भी तरह की मेल, documents, files, Media को दुनिया के किसी भी कोने में भेज सकते हैं। आज की पोस्ट में मैं आपको इस टेक्नोलॉजी के बारे में विस्तार से बताऊंगा की ईमेल क्या है? ये किस तरह से कार्य करती है? और ये कैसे बनी आदि.

email kya hai

-: Email kya hai? What is email in Hindi


#1. Email kya hai और इसकी शुरुआत कब हुई थी ?

email या e-mail का पूरा नाम electronic mail है, "email किसी भी computer या mobile में संगृहीत(Stored) ऐसीं information होती है जिसका आदान प्रदान दो user के बीच में telecommunication के माध्यम से किया जाता है "। एक सरल भाषा में कहें तो ईमेल एक message है जिसमे text, files, images और अन्य attachment शामिल होते हैं' जिसे एक network के द्वारा किसी एक व्यक्ति या बहुत सारे व्यक्तियों के ग्रुप को भेजा जाता है। आज के समय में अधिकतर लोग, व्यवसाय और कंपनियां एक दुसरे से communication के लिए ईमेल का ही इस्तेमाल करते हैं।

सबसे पहली email 1971 में Ray Tomlinson ने भेजी थी। Tomlinson ने test email message के तौर पर वह ईमेल खुद को भेजी थी जिसमे कुछ text " Something like QWERTYUIOP." शामिल थे। इसके बाद 1996 तक postal mail की तुलना मे सबसे ज्यादा electronic mail भेजे जाने लगे थे।

#3. Email address या e-mail id क्या होती है?

सामान्यतः email address या id आपके ईमेल का पता होता है जिसके द्वारा आप किसी दुसरे व्यक्ति को mail भेज सकते हैं या फिर किसी दुसरे व्यक्ति से mail प्राप्त कर सकते हैं। एक email id कुछ इस तरह की होती है-"
example12@gmail.com, example@companyname.com.
  • किसी भी email address का पहला portion या @ से पहले वाला भाग user, group या company का नाम होता है। 
  • इसके बाद सभी email address में एक divider के तौर पर @ का उपयोग किया जाता है। Starting से ये सभी तरह के SMTP email address में use किया जाता है। 
  • @ के बाद अंत में Company के domain name का use किया जाता है। अगर आप किसी free email provider का उपयोग कर रहे हैं तो आपके email address के अंत में उसी कंपनी का domain name लिखा जायेगा जैसे की- username@gmail.com, username@hotmail.com आदि। 


#3. Email का आदान प्रदान(Send and Recieve) कैसे किया जाता है ?

एक email को भेजना और recieve करने के do तरीके हैं जिनमे से दूसरा वाला तरीका आज के समय में सबसे अधिक उपयोग किया जाता है।

1. E-mail Program
ई-मेल message को भेजने और प्राप्त करने के लिए, आप एक email program का उपयोग कर सकते हैं, जिसे email client, जैसे कि Microsoft outlook या Mozila thunderbird भी कहा जाता है। email client का उपयोग करते समय, आपके पास एक ऐसा server होना चाहिए जो आपके messages को Store और वितरित(Deliver) कर सके, यह server आपके ISP (Internet service provider) के द्वारा या किसी अन्य कंपनी के द्वारा provide की जाती है। एक email client को नए ईमेल डाउनलोड करने के लिए server से connect करने की आवश्यकता पड़ती है।

2. E-mail online
जैसा की मैं पहले बता चूका हूँ की ई-मेल भेजने और प्राप्त करने का ये  तरीका आज के समय में अत्यधिक लोकप्रिय हो चुका है और इसे email online या webmail भी कहते हैं जैसे की Gmail, yahoo mail, Outlook आदि। इनमे से बहुत सी email service बिलकुल मुफ्त हैं,  बस हमें एक account बनाने की जरूरत होती है और account बन जाने के बाद हम अपने computer या mobile से अपने account को access करके emails भेज  सकते हैं और प्राप्त कर सकते हैं।

#4. Email कैसे लिखते हैं ?

सभी ईमेल services के कुछ common features होते हैं जो की समान होते हैं। एक email लिखते समय निम्न fields required होते हैं।

1. To-: वह जगह है जहां आप उस व्यक्ति का ई-मेल address टाइप करते हैं जिसे message भेजना है या  जो आपके message को recieve करेगा।

2. From -: इस field में आपको अपना email address डालना होता है।

3. Subject -: इस field में आपको email का मुख्य topic लिखना होता है ताकि जिसे आप mail भेज रहे हैं उसे यह पता चल सके की ईमेल किस बारे में है। ये एक Optional field है।

email kya hai


4. Compose email या Message Body -: अंत में, compose email या message body वह स्थान है जहां आप अपना मुख्य message टाइप करते हैं। message टाइप करने के अलावा आप यहाँ पर कोई attachment जैसे की image, video , document भी add कर सकते हैं।

#5. E-mail के कुछ मुख्य फायदे?


ई-मेल के बहुत सारे फायदे हैं और postal mail की तुलना में  ई-मेल को use करने के भी कुछ फायदे हैं। कुछ मुख्य फायदे नीचे सूचीबद्ध हैं।

1. Free Delivery - Internet service और data usage को छोड़कर एक ई-मेल भेजना लगभग मुफ्त है। Postmail की तरह यहाँ पर stamp या टिकट खरीदने की कोई जरूरत नहीं है।

2. Global Delivery- हम किसी भी देश में या दुनिया भर में कहीं भी ई-मेल को भेज सकते हैं।

3. Instant Delivery - इन्टरनेट पर एक ईमेल को तुरंत भेजा जा सकता है और प्राप्तकर्ता (Recipient) द्वारा तुरंत प्राप्त(recieve) भी किया जा सकता है।

4. File attachment - एक email  में एक या उससे अधिक files को attach किया जा सकता है,यानिकी की email के साथ हम image, video, text files, audio files और अन्य documents भी भेज सकते हैं।

5. Long term Storage - ई-मेल इलेक्ट्रॉनिक रूप से stored होते हैं, यानिकी हम किसी भी email या file को लम्बे समय तक store करके रख सकते हैं।

6. पर्यावरणीय रूप से अनुकूल - एक email भेजने के लिए हमें किसी भी paper, packing tap, cardboard आदि की जरूरत नहीं पड़ती। इसलिए देखा जाये तो ये एक तरह से पर्यावरण को भी नुक्सान नहीं पहुंचाता।

#6. E-mail के द्वारा क्या-क्या भेज सकते हैं?

एक ईमेल में text message के साथ साथ हम अनेक प्रकार की files को भेज सकते हैं जैसे Pdf, images, movie, audio, video आदि। लेकिन कुछ security issue की वजह से बहुत सी  files को भेजना थोडा मुश्किल होता है। जैसे की बहुत सी कंपनियां .exe files को allow नहीं करती इसलिए सबसे पहले इन files को  .zip में compress करना पड़ता है।

इसके अलावा कुछ mail providers के file size को लेकर कुछ restrictions होते हैं जिनके कारण बड़ी size की files को email के द्वारा नहीं भेज सकते।

#7. एक Valid email की कुछ अन्य ख़ास बातें?

  • जैसा की में पहले ही बता चूका हूँ की किसी भी ईमेल address में username जरूर होता है जिसे @ से पहले लिखा जाता है। 
  • किसी भी email में username 64 characters से लम्बा और domain name 254 characters से लम्बा नहीं हो सकता है। 
  • Email address में सिर्फ एक ही @ का sign होना चाहिए। 
  • किसी भी ईमेल address के शुरू और अंत में Dot या Full stop ( . ) नहीं लगाया जा सकता। 

#. Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको पोस्ट पसंद आई होगी। अगर वाकई में आपको हमारी पोस्ट "Email kya hai" पसंद आई है तो थोडा समय निकालकर इस पोस्ट को share करना न भूलें।  अगर आप आगे भी हमसे इसी तरह की जानकारियां चाहते हैं तो अभी हमारी website को bookmark करके save कर लीजिये।  अगर आपके पास कोई भी सवाल या सुझाव हो तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।