Business Tips in Hindi 2018

क्या आप एक नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं? आज में आपको अपने व्यवसाय को सफल(Succesful) बनाने के लिए Top 8 Business Tips in Hindi के बारे में बताने वाला हूँ। आज के समय में internet पर बहुत सी ऐसीं websites और articals मोजूद हैं  जो किसी व्यवसाय को शुरू करने से लेकर सफल बनाने तक की Tips, तरीके और भी बहुत कुछ जरूरी बाते बताते रहते हैं। ये सभी Tips और तरीके किसी भी तरह के startups के लिए बहुत उपयोगी होते हैं क्युकी ये किसी व्यवसाय के शुरुआती चरणों को याद रखने में हमारी मदद करते हैं। लेकिन एक बात हमें हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए की इस तरह की tips सिर्फ हमें एक सही राह  दिखाने का काम करती है और हमें सही सुझाव देती हैं सफल होने के लिए हमें खुद काम करना होता है।

#. Business Tips in Hindi 2018

business tips in hindi

#1. अपने आप को जानें,कितना पैसा आप जोखिम ले सकते हैं, और आप Success होने के लिए क्या करना चाहते हैं?

निश्चित रूप से, सभी अपने व्यवसाय से लाखों रूपए कमाना चाहते हैं। लेकिन आप उस लक्ष्य तक पहुंचने के लिए क्या छोड़ने को तैयार हैं? आप एक हफ्ते या दिन में कितने घंटे काम करेंगे? आप अपने comfort Zone(आराम) से कितने दूर रहेंगे?आपका परिवार आपसे कितने दूर होगा आदि.? ये सभी बाते आपको एक व्यवसाय शुरू करने से पहले जरूर तय करनी चाहिए। सफल होने के लिए, अपनी व्यवसायिक योजनाओं को अपने व्यक्तिगत और पारिवारिक लक्ष्यों(personal and family goals) से अलग रखें।

#2. अपने लिए एक सही व्यवसाय का चयन करें। 

एक पुराना सफलता मन्त्र " एक आवश्यकता को ढूंढे और उसे भरे " अभी भी काम करता है. यानिकी सबसे पहले किसी ऐसीं चीज़ को ढूंढे जिसकी अधिक जरूरत हो और फिर उस जरूरत को पूरा करें कहने का मतलब है की एक ऐसा व्यवसाय चुने जिसकी बाज़ार में अधिक जरूरत/demand हो और फिर उन सभी demands/जरूरतों को व्यवसाय के माध्यम से पूरा करे ऐसा करने से आपको जरूर लाभ होगा। 
हमेशा यह सुनिश्चित(confirm) करें की जिस भी चीज़ को आप बेचने वाले हैं उसकी एक बेहतर market मौजूद हो क्युकी अगर ऐसा न हुआ तो आपको व्यवसाय में नुक्सान हो सकता है।


#3. सफल होने की योजना बनायें। 

यदि आप अपने व्यवसाय के लिए Investors(पैसा लगाने वाले ) की तलाश नहीं कर रहे हैं या अपने व्यवसाय में भारी धनराशि नहीं डाल रहे हैं, तो आपको एक लम्बे  business plan की आवश्यकता नहीं पड़ सकती , लेकिन आपको अभी भी एक plan(योजना) की आवश्यकता है - एक ऐसीं योजना जो आपके लक्ष्य (goal) और आपकी destination को specifie या निर्दिष्ट करेगी और आपको आगे बढ़ने में मदद करेगी। जैसे जैसे आप प्रगति करेंगे , अपने customers और Competition को और अच्छी तरह से जानेंगे तो आपकी योजनायें भी बदलती जाएगी और ये  योजनायें हमेशा आपको आपके लक्ष्य की तरफ ही केन्द्रित कर के रखेंगी।

#4. शुरू करने से पहले एक छोटे पैमाने(small scale) पर काम शुरू करें। 

कुछ लोग मानते हैं कि सभी  Entrepreneurs(उद्यमी) जोखिम लेने वाले होते हैं। लेकिन अधिकांश सफल entrepreneurs को अंधाधुंध चलना पसंद नहीं होता । इसके बजाए, वे Controlled risk(नियंत्रित जोखिम) लेते हैं। वे किसी भी idea को एक छोटे पैमाने पर test करते हैं और अगर योजना सफल हो जाये तो ही उसे बड़े पैमाने पर लेकर जाते हैं इसलिए किसी भी व्यवसाय को सीधे एक बड़े पैमाने पर शुरू करना जोखिंम भरा हो सकता है।

#5. गलतियों से आगे बढ़ना सीखें। 

सफल लोगों  और आम लोगों के बीच का मुख्य अंतर यह है की  सफल लोग अपनी गलतियों से सीखते हैं और आगे बढ़ते हैं। वे असफलता पर ध्यान नहीं देते ,न ही अपनी किस्मत या दुर्भाग्य को दोषी ठहराते हैं, और न ही अपने भाग्य के लिए दुसरे लोगों को दोष देते हैं। अगर उनके लक्ष्य का मार्ग Blocked(अवरुद्ध) है तो वो किसी दुसरे रस्ते की तलाश करते हैं या फिर कभी कभी एक अलग और अधिक प्राप्य (more attainable ) लक्ष्य को चुनते हैं।

#6. दूसरों से सीखें। 

अपने व्यवसाय से सम्बंधित लोगों से हमेशा संपर्क बनाकर रखें और उनसे कुछ न कुछ सीखते रहें। ऐसा करने के लिए आप उद्योग सम्मेलनों (industry conference), seminars में भाग लें, Experts के द्वारा Offered(पेश) किये गए Courses को खरीदें, यदि आपके आस पास कोई tranning course चल रहा हो तो उसमे जरूर भाग लें। दूसरों से सीखने का फायदा ये है की जब भी अपना व्यवसाय शुरू करेंगे तो उसमे किसी भी तरह की त्रुटी या गलती होने के chances बहुत कम हो जायेंगे।

#7. एक business के रूप में आप क्या करते हैं इसके बारे में सोचें।

अपनी Income और expenses(कमाई और खर्चे) को हमेशा ध्यान में रखें, business money को अपने personal खर्चे और funds से बिलकुल अलग रखें। यह पता करें व्यवसाय को आगे बढाने के लिए आपके व्यवसाय को किस नियमों का पालन करना है या करना चाहिए।

#8. कभी भी सीखना बंद न करें और नई चीजों को सीखने की कोशिश करें। 

जरूरी नहीं की जो चीज़ आज लाभदायक(profitable) है , वो ही चीज़ अगले वर्ष या अगले 10 सालों तक लाभदायक रहेगी। इसलिए कभी भी अपनेआप में ये न कहें की "मैंने हमेशा इसी तरह से काम किया है".हमेशा  नई चीजों के लिए अपनी आंखें और कान खुले रखें क्युकी जिस चीज़ पर आप काम कर रहे हैं वो हमेशा के लिए फायदेमंद नहीं है। इसलिए आपको हमेशा नई चीज़ों के लिए तैयार रहना चाहिए।

तो ये थी कुछ जरूरी Business Tips in Hindi जिनकी मदद से आपको अपने व्यवसाय को आगे बढाने और सफल बनाने  में जरूर मदद मिलेगी। मुझे उम्मीद है आपको पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आपका पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमसे कमेंट कर के पूछ सकते हैं। अगर पोस्ट पसंद आई हो तो इसे share जरूर कीजियेगा।

Email id kaise Banaye- Complete Guide in Hindi 2018


आज की पोस्ट में हम जानेंगे की Email id kaise banaye? आज के समय में हर व्यक्ति के लिए email बहुत जरूरी हो चुका है इससे पहली पोस्ट में मैंने बताया था की email क्या है और इसे कैसे use किया जाता है? ईमेल आज के समय की digital technology का एक अहम हिस्सा है।  पहले समय में किसी mail या message को postmail के माध्यम एक जगह से दूसरी जगह  भेजने के लिए जहाँ हमें महीनो तक इंतज़ार करना पड़ता था आज वो ही काम email की मदद से कुछ ही सेकंड्स में पूरा हो जाता है  और इसकी एक ख़ास बात ये है की हम email id के माध्यम से किसी message के साथ साथ digital files जैसे की images, videos, pdf, audio आदि। को भी भेज सकते हैं वो भी बिना किसी stamp या टिकट के क्युकी ये पूरी सेवा बिलकुल मुफ्त है इसके अलावा लगभग सभी online services को इस्तेमाल करने के लिए email id आवश्यक होती है।  किसी भी email का उपयोग करने के लिए हमें सबसे पहले एक email id की जरूरत होती है तो चलिए जानते हैं की ईमेल ईद कैसे बनाए? 

email id kaise banaye

#. Email id kaise banaye-:

Communication के लिए आज की दुनिया में एक email id(ईमेल ईद) होना आवश्यक है। एक ईमेल id अपने users को अपने परिवार और दोस्तों के साथ बात चीत करने,रोजगार के लिए online resume भेजने, online shopping या bill भरने पर receipts(रसीद) प्राप्त करने और विभिन्न वेबसाइटों के साथ membership और खाते बनाने जैसे कार्यों की अनुमति देता है। इन्टरनेट पर बहुत से email service providers मोजूद हैं लेकिन में आपको  सबसे लोकप्रिय और मुफ्त email service provider  gmail(जीमेल) और yahoo  पर खुदकी email id बनाने के तरीके बताऊंगा। 

#1. Gmail Id कैसे बनाए?(जीमेल आईडी)

-: सबसे पहले तो mail.google.com पर जाएँ। 
-: अब Create an Account पर क्लिक करें। 

gmail id kaise banaye

अब यहाँ पर आपको एक form fill करना है। 
1. इन दो boxes में आपको अपना पूरा नाम डालना है. पहले वाले box में पहला नाम और दुसरे वाले में last name

2. यहाँ पर आपको अपना username लिखना है जैसे की- yourname123, yourname6565 आदि। 

3. यहाँ पर आपको अपनी email id के लिए एक strong password select करना है और confirm password वाले box में दुबारा से password enter करना है। 
4. अब next पर क्लिक कर दें। 

gmail id kaise banaye

5. इस box में आपको अपना mobile number add करना है. यह optional है लेकिन अगर mobile नंबर email id से linked होगा तो कभी भी password भूलने पर आप आसानी से अपना पासवर्ड recover कर सकते है। 

6. यहाँ पर आपको अपनी जन्म तिथि(date of birth) select करनी है। 
7. अपना gender select करें और next पर क्लिक करें. अब आपका जीमेल account बन चुका है। 

gmail id kaise banaye


#2. Yahoo mail कैसे बनाए?

1. सबसे पहले https://login.yahoo.com/account/create को open करे। 

2. Link को open करने बाद एक छोटा सा फॉर्म खुलेगा जिसमे आपको अपनी details जैसे की-name, username, phone number, D.O.B आदि  भरनी है.(जैसा मेने gmail के steps में बताया है) 

3. Details भरने के बाद Continue पर click करें। 

yahoo id kaise banaye


4. Continue करने के बाद आपको अपना mobile नंबर verify करना है इसलिए Text me An Account Key पर क्लिक करें। 
5. क्लिक करने के बाद आपके mobile नंबर पर 5 अंको का एक नंबर भेजा जायेगा. उस नंबर को यहाँ पर डाले और verify पर क्लिक करे। 

yahoo id kaise banaye

6. Finally आपका yahoo mail account बन चुका है. Terms and condition box पर tick करें और continue पर क्लिक करें। 
yahoo id kaise banaye

-: मुझे उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट Email id kaise Banaye? पसंद आई होगी। अगर आपका email id से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। अगर पोस्ट पसंद आई हो तो इसे share जरूर कीजियेगा। 


ईमेल क्या है ? What is email in Hindi


क्या आप जानते हैं कि Email kya hai?What is email in Hindi कुछ दशकों पहले तक एक जगह से दुसरीं जगह तक किसी संदेश को पहुंचाने के लिए महीनों लग जाते थे क्योंकि उस समय मे किसी संदेश के आदान प्रदान के लिए पोस्ट या डाक ही एकमात्र option था। लेकिन आज के Modern जमाने और Modern Technology की बदौलत सैकड़ों काम कुछ चंद मिनटों में पूरे हो जाते हैं। इसी Modern Technology में शामिल है Email या Electronic mail जिसकी मदद से आज किसी भी Mail या सन्देश को बिना किसी डाक या पोस्ट के द्वारा भी अपने Phone या

Computer से ही दुनिया के किसी भी कोने में भेज सकते हैं और ख़ास बात ये है की डाक या Post की तरह किसी mail को भेजने के लिए आपको महीनों तक इंतज़ार नहीं करना पड़ता क्यूंकि ईमेल के द्वारा आप कुछ ही सेकंड में किसी भी तरह की मेल, documents, files, Media को दुनिया के किसी भी कोने में भेज सकते हैं। आज की पोस्ट में मैं आपको इस टेक्नोलॉजी के बारे में विस्तार से बताऊंगा की ईमेल क्या है? ये किस तरह से कार्य करती है? और ये कैसे बनी आदि.

email kya hai

-: Email kya hai? What is email in Hindi


#1. Email kya hai और इसकी शुरुआत कब हुई थी ?

email या e-mail का पूरा नाम electronic mail है, "email किसी भी computer या mobile में संगृहीत(Stored) ऐसीं information होती है जिसका आदान प्रदान दो user के बीच में telecommunication के माध्यम से किया जाता है "। एक सरल भाषा में कहें तो ईमेल एक message है जिसमे text, files, images और अन्य attachment शामिल होते हैं' जिसे एक network के द्वारा किसी एक व्यक्ति या बहुत सारे व्यक्तियों के ग्रुप को भेजा जाता है। आज के समय में अधिकतर लोग, व्यवसाय और कंपनियां एक दुसरे से communication के लिए ईमेल का ही इस्तेमाल करते हैं।

सबसे पहली email 1971 में Ray Tomlinson ने भेजी थी। Tomlinson ने test email message के तौर पर वह ईमेल खुद को भेजी थी जिसमे कुछ text " Something like QWERTYUIOP." शामिल थे। इसके बाद 1996 तक postal mail की तुलना मे सबसे ज्यादा electronic mail भेजे जाने लगे थे।

#3. Email address या e-mail id क्या होती है?

सामान्यतः email address या id आपके ईमेल का पता होता है जिसके द्वारा आप किसी दुसरे व्यक्ति को mail भेज सकते हैं या फिर किसी दुसरे व्यक्ति से mail प्राप्त कर सकते हैं। एक email id कुछ इस तरह की होती है-"
example12@gmail.com, example@companyname.com.
  • किसी भी email address का पहला portion या @ से पहले वाला भाग user, group या company का नाम होता है। 
  • इसके बाद सभी email address में एक divider के तौर पर @ का उपयोग किया जाता है। Starting से ये सभी तरह के SMTP email address में use किया जाता है। 
  • @ के बाद अंत में Company के domain name का use किया जाता है। अगर आप किसी free email provider का उपयोग कर रहे हैं तो आपके email address के अंत में उसी कंपनी का domain name लिखा जायेगा जैसे की- username@gmail.com, username@hotmail.com आदि। 


#3. Email का आदान प्रदान(Send and Recieve) कैसे किया जाता है ?

एक email को भेजना और recieve करने के do तरीके हैं जिनमे से दूसरा वाला तरीका आज के समय में सबसे अधिक उपयोग किया जाता है।

1. E-mail Program
ई-मेल message को भेजने और प्राप्त करने के लिए, आप एक email program का उपयोग कर सकते हैं, जिसे email client, जैसे कि Microsoft outlook या Mozila thunderbird भी कहा जाता है। email client का उपयोग करते समय, आपके पास एक ऐसा server होना चाहिए जो आपके messages को Store और वितरित(Deliver) कर सके, यह server आपके ISP (Internet service provider) के द्वारा या किसी अन्य कंपनी के द्वारा provide की जाती है। एक email client को नए ईमेल डाउनलोड करने के लिए server से connect करने की आवश्यकता पड़ती है।

2. E-mail online
जैसा की मैं पहले बता चूका हूँ की ई-मेल भेजने और प्राप्त करने का ये  तरीका आज के समय में अत्यधिक लोकप्रिय हो चुका है और इसे email online या webmail भी कहते हैं जैसे की Gmail, yahoo mail, Outlook आदि। इनमे से बहुत सी email service बिलकुल मुफ्त हैं,  बस हमें एक account बनाने की जरूरत होती है और account बन जाने के बाद हम अपने computer या mobile से अपने account को access करके emails भेज  सकते हैं और प्राप्त कर सकते हैं।

#4. Email कैसे लिखते हैं ?

सभी ईमेल services के कुछ common features होते हैं जो की समान होते हैं। एक email लिखते समय निम्न fields required होते हैं।

1. To-: वह जगह है जहां आप उस व्यक्ति का ई-मेल address टाइप करते हैं जिसे message भेजना है या  जो आपके message को recieve करेगा।

2. From -: इस field में आपको अपना email address डालना होता है।

3. Subject -: इस field में आपको email का मुख्य topic लिखना होता है ताकि जिसे आप mail भेज रहे हैं उसे यह पता चल सके की ईमेल किस बारे में है। ये एक Optional field है।

email kya hai


4. Compose email या Message Body -: अंत में, compose email या message body वह स्थान है जहां आप अपना मुख्य message टाइप करते हैं। message टाइप करने के अलावा आप यहाँ पर कोई attachment जैसे की image, video , document भी add कर सकते हैं।

#5. E-mail के कुछ मुख्य फायदे?


ई-मेल के बहुत सारे फायदे हैं और postal mail की तुलना में  ई-मेल को use करने के भी कुछ फायदे हैं। कुछ मुख्य फायदे नीचे सूचीबद्ध हैं।

1. Free Delivery - Internet service और data usage को छोड़कर एक ई-मेल भेजना लगभग मुफ्त है। Postmail की तरह यहाँ पर stamp या टिकट खरीदने की कोई जरूरत नहीं है।

2. Global Delivery- हम किसी भी देश में या दुनिया भर में कहीं भी ई-मेल को भेज सकते हैं।

3. Instant Delivery - इन्टरनेट पर एक ईमेल को तुरंत भेजा जा सकता है और प्राप्तकर्ता (Recipient) द्वारा तुरंत प्राप्त(recieve) भी किया जा सकता है।

4. File attachment - एक email  में एक या उससे अधिक files को attach किया जा सकता है,यानिकी की email के साथ हम image, video, text files, audio files और अन्य documents भी भेज सकते हैं।

5. Long term Storage - ई-मेल इलेक्ट्रॉनिक रूप से stored होते हैं, यानिकी हम किसी भी email या file को लम्बे समय तक store करके रख सकते हैं।

6. पर्यावरणीय रूप से अनुकूल - एक email भेजने के लिए हमें किसी भी paper, packing tap, cardboard आदि की जरूरत नहीं पड़ती। इसलिए देखा जाये तो ये एक तरह से पर्यावरण को भी नुक्सान नहीं पहुंचाता।

#6. E-mail के द्वारा क्या-क्या भेज सकते हैं?

एक ईमेल में text message के साथ साथ हम अनेक प्रकार की files को भेज सकते हैं जैसे Pdf, images, movie, audio, video आदि। लेकिन कुछ security issue की वजह से बहुत सी  files को भेजना थोडा मुश्किल होता है। जैसे की बहुत सी कंपनियां .exe files को allow नहीं करती इसलिए सबसे पहले इन files को  .zip में compress करना पड़ता है।

इसके अलावा कुछ mail providers के file size को लेकर कुछ restrictions होते हैं जिनके कारण बड़ी size की files को email के द्वारा नहीं भेज सकते।

#7. एक Valid email की कुछ अन्य ख़ास बातें?

  • जैसा की में पहले ही बता चूका हूँ की किसी भी ईमेल address में username जरूर होता है जिसे @ से पहले लिखा जाता है। 
  • किसी भी email में username 64 characters से लम्बा और domain name 254 characters से लम्बा नहीं हो सकता है। 
  • Email address में सिर्फ एक ही @ का sign होना चाहिए। 
  • किसी भी ईमेल address के शुरू और अंत में Dot या Full stop ( . ) नहीं लगाया जा सकता। 

#. Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको पोस्ट पसंद आई होगी। अगर वाकई में आपको हमारी पोस्ट "Email kya hai" पसंद आई है तो थोडा समय निकालकर इस पोस्ट को share करना न भूलें।  अगर आप आगे भी हमसे इसी तरह की जानकारियां चाहते हैं तो अभी हमारी website को bookmark करके save कर लीजिये।  अगर आपके पास कोई भी सवाल या सुझाव हो तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।

अपना बिजनेस कैसे शुरू करे? How To Start a Business In Hindi 2018


बिजनेस कैसे शुरू करे?आज के समय में बढती बेरोज़गारी और नौकरी की कमी के कारण अधिक संख्या में लोग खुद के बिजनेस की तरफ रुख कर रहे हैं, कोई छोटा मोटा बिजनेस करने की सोचता है तो कोई बड़ा व्यवसाय करने की सोचता है। लेकिन इस क्षेत्र की अधिक जानकारी न हो पाने के कारण बहुत से लोग इस सोच में पड़ जाते हैं की आखिर खुद का बिजनेस कैसे शुरू करे? और सबसे अधिक महत्वपूर्ण बात तो ये है की बिना किसी जानकारी के बिजनेस शुरू करना आगे चलकर बहुत से जोखिमों से भरा हो सकता है। इसलिए आज की इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा खुद का बिजनेस शुरू करने से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण steps और जानकारी जो आपको अपना  व्यवसाय स्थापित करने में कुछ हद तक मदद जरूर करेंगी।

business kaise shuru kare

-: अपना बिजनेस कैसे शुरू करे? How To Start a Business In Hindi

#1. एक बेहतर बिजनेस का चयन करना। 

एक बेहतर बिजनेस चयन करने का मतलब ऐसे काम से है जिसमे आपका पूरी तरह से Interest हो और जिसे करने में आपको कोई परेशानी न हो। इसलिए सबसे पहले तो आप अपने skill, experience और passion पर focus करे और इन्ही तीनों के आधार पर एक बेहतर व्यवसाय को चुने। इसके अलावा आपको अपनी Financial Condition को भी ध्यान में रखना होगा ताकि आगे चलकर आपको किसी भी तरह से पैसों की तंगी का सामना न करना पड़े। पिछली पोस्ट में मैंने कुछ कम खर्च वाले बिजनेस की जानकारी दी जिसे आपको जरूर देखना चाहिए।

#2. एक Business Plan और Material तैयार करना। 

1. बिजनेस शुरू करने की श्रंखला में सबसे महत्वपूर्ण और पहला कदम है अपने Business, Products,Services या सेवाओं को परिभाषित(Define) करने के लिए एक बिजनेस plan तैयार करना और अपने लक्ष्यों(Goals), Operating Procedure और Competition की एक रूप रेखा तैयार करना. यानिकी जो व्यवसाय आप शुरू करने वाले हैं उसका लक्ष्य, उसको चलाने की पूरी प्रक्रिया, और market में उस बिजनेस का कितना Competition है, इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए एक रूपरेखा या Plan तैयार करना।

Business plan तैयार करने का दूसरा मुख्य कारण है ये है की अगर आपके व्यवसाय या कंपनी को किसी भी तरह के traditional Loan या बैंक से  Fund/पैसों की जरूरत है तो इसके लिए आपके पास आपका business plan होना जरूरी है। ठीक जिस तरह एक Home Loan के लिए घर का नक्शा जरूरी होता है।  एक बात और सुनिश्चित करें कि आपकी योजना में Marketing strategy भी शामिल हो, ताकि लोगों को पता चल सके की आप क्या बेच रहे हैं और आपको कैसे ढूँढा जाये।

2. एक business logo, cards, Holdings आदि बनाएँ। ये सभी आइटम आपकी कंपनी की पहचान स्थापित करने में एक अहम भूमिका निभाते हैं और संभावित ग्राहकों को आपके व्यापार को  ढूंढने और याद रखने में आपकी सहायता करते हैं।




#3. Incorporation

Business entity registration या Incorporation यानिकी व्यापार इकाई का निर्णय करना और चुनना है. भारत में व्यवसाय शुरू करने का पहला कदम एक व्यापार इकाई का निर्णय लेना और चुनना है। एक व्यापार इकाई का चयन करना एक यात्रा के लिए वाहन चुनने जैसा है । इसलिए सबसे पहले आपको अपने व्यवसाय को Private Limited Company या Partnership firm या Limited Liability partnership(LLP) में सम्मिलित करना होगा।

आपको किसी भी व्यवसाय के पंजीकरण या Incorporation के लिए सभी सामान्य प्रक्रियाओं का पालन करना होगा जैसे कि partnership registration, PAN और अन्य आवश्यक अनुपालन प्रमाणपत्र प्राप्त करना।
Note- अधिक जानकारी के इन्टरनेट की सहायता लें।

#4. Bank Account खोलना। 

Business Finances और Personal Finance को अलग(Seperate) रखने के लिए एक Business bank account जरूरी होता है। जिसके माध्यम से आप अपने व्यापार के funds को seperate रख सकते हैं।  Business bank account खोलने के लिए आपको कुछ जरूरी दस्तावेजों जैसे की Identity Proofs,Pan card, Entity Registration certificate, आदि की जरूरत पड़ेगी।

यदि आपको अपने व्यापार को शुरू करने या फिर किसी भी तरह के Equipmnet को खरीदने के लिए bank loan की आवश्यकता पड़ने वाली है तो बेहतर होगा की किसी Nationalized Bank में account खोलें क्युकी privatized  बैंकों की तुलना में, Nationalized बैंक startup के लिए bank loan प्रदान करने के पक्ष में अधिक होते हैं।

#5. Tax Registration

Business या Customer requirments द्वारा प्रस्तावित गतिविधि के प्रकार के आधार पर, व्यवसाय के लिए विभिन्न Tax registration की आवश्यकता हो सकती है, जोकि निम्नानुसार है:
  1. VAT Registration -: Vat registration या TIN number किसी भी व्यक्ति या entity के लिए जरूरी है।  यदि business में Sales, Goods, या किसी भी तरह के product की बिक्री शामिल है तो VAT regsitration या TIN number जरूरी है।  इसके अलावा flipkart और snapdeal में seller बनने के लिए भी Vat या Tin नंबर की जरूरत होती है। 
  2. Service Tax Registration -: Service tax Registration उन सभी व्यवसायों के लिए Required है जो किसी भी तरह की service प्रदान करते हैं और जिनकी Annual billing 9 लाख रूपए से ज्यादा है। 
  3. TAN Registration -: Tax Deduction के लिए TAN Registration की आवश्यकता होती है. इसके अलावा employees को hire करने या किसी Customer के साथ deal करते समय भी आपको TAN registration की आवश्यकता हो सकती है। 
  4. ESI Registration -: ESI Registration की जरूरत आपको तब पड़ेगी जब आपके व्यवसाय में 20 या 20 से अधिक employee शामिल  हो जाएँ। 


#6. अपने व्यवसाय के लिए कार्यक्षेत्र तैयार करें।

अपने व्यवसाय के लिए एक बेहतर कार्यक्षेत्र का निर्णय करना भी बेहद जरूरी है.अगर आप अपने घर पर ही बिजनेस शुरू करने वाले हैं तो ये सुनिश्चित कर लें की आप अपने क्षेत्र के लिए City Zoning की सभी Requirements को पूरा कर रहे हैं .इसके अलावा जिस भी तरह का व्यवसाय आप करने जा रहे हैं उसके लिए एक बेहतर कार्यक्षेत्र चुनना बहुत जरूरी है जैसे की किसी shop या store के लिए market के आस पास का क्षेत्र, किसी बड़ी industry के लिए शहर से दूर का क्षेत्र आदि।

Final Conclusion -: दोस्तों में ये तो नहीं कहूँगा की सिर्फ इन steps की मदद से ही आप खुदका बिजनेस शुरू कर सकते हैं लेकिन ये सभी  आपके Basic knowledge को clear जरूर करेंगे और इनसे आपको एक idea मिल जायेगा की मुझे आगे क्या करना है.मैंने आपको सिर्फ main Topics बताये हैं अब आपको इन topics को Expand करना होगा  और इनके बारे में और अधिक जानना होगा तभी आप आसानी से business शुरू कर पाएंगे।

मैं उम्मीद करता हूँ की अब आप जान चुके होंगे की बिजनेस कैसे शुरू करे ?How to Start a Buisiness In Hindi और यह भी उम्मीद करता हूँ की आपको पोस्ट पसंद आई होगी.यदि आपका  पोस्ट या किसी भी topic से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं और अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई हो तो Post को share करना मत भूलियेगा।

Wifi Ka Password Kaise Pata Kare- Complete Tutorial In Hindi 2018


Wifi ka Password kaise pata kare? क्या आप अपने Computer या Mobile से  connected wifi का password भूल गए हैं या फिर जानना चाहते हैं की Wifi का पासवर्ड कैसे पता करते हैं? की  अक्सर हम हमारे फ़ोन या computer से connected वाई फाई का पासवर्ड भूल जाते हैं या फिर किसी दुसरे व्यक्ति के कंप्यूटर या मोबाइल का password जानने की कोशिश करते हैं। इसीलिए आज में आपको इस बारे में पूरी जानकारी दूंगा और बताऊंगा की किसी भी computer या mobile से  connected Wifi का पासवर्ड कैसे पता करते हैं।

wifi ka password kaise pata kare

Wifi ka Password Kaise Pata Kare? Complete Tutorial In Hindi 2018-:

#1. Computer में ?

Note-: ये किसी भी तरह की Hacking trick नहीं है बल्कि wifi password पता करने का Genuine तरीका है और इस विधि से आप अपने दोस्त के वाई फाई का password भी जान सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको अपने दोस्त का Computer या Laptop access करना होगा ताकि आप उसका पासवर्ड जान सकें और अपने मोबाइल या PC में दोस्त का wifi use कर सकें।

1. जिस भी wifi नेटवर्क का password आपको पता करना है उस नेटवर्क से आपका कंप्यूटर जरूर connected होना चाहिए।

2. सबसे पहले तो अपने कंप्यूटर के Taskbar में दायीं तरफ Network या Wifi के icon पर क्लिक करें।

3. अब यहाँ पर सबसे निचे Open Network and Sharing Center या Network and Internet setting पर क्लिक करें।

4. अब Change Adaptor Setting पर क्लिक करें। अगर आपको ये Option नहीं मिल रहा तो सबसे पहले WiFi tab पर क्लिक करें।

5. यहाँ पर आपको अपने Current Wifi नेटवर्क को select करना है और उसपर Double क्लिक करना है। जो कुछ इस तरह से दिखेगा।

wifi ka password kaise pata kare

6. डबल क्लिक करने के बाद इस तरह की एक popup window open होगी। यहाँ पर आपको Wireless Properties पर क्लिक करना है।

wifi ka password kaise pata kare

7. Wireless Properties को select करने के बाद एक दूसरी popup window खुलेगी जिसमे आपको सबसे ऊपर security Tab को select करना है।

8. Security tab को select करने पर  आपको Network Security Key box दिखेगा इस box के निचे Show characters पर tick करें आपको आपका Wifi password दिख जायेगा।

wifi ka password kaise pata kare


#. Command Prompt के द्वारा 

1. अगर ऊपर दिया हुआ Method आपको समझ न आया हो तो इससे भी सरल विधि से आप computer में वाई फाई का पासवर्ड पता कर सकते हैं।

2. सबसे पहले तो Start menu Open करें और cmd टाइप करें। ( सिर्फ टाइप करें Enter न दबाएँ)

3. अब स्टार्ट menu में सबसे ऊपर Programs tab में cmd नाम की एक App आएगी। App पर Right Click करें और Run As Administrator पर क्लिक करें।

4. अब आपके सामने Command Prompt खुल चुका है। अगर आपको Network का नाम याद नहीं है तो सबसे पहले इस Code( netsh wlan show profile ) को टाइप करें और enter button दबाएँ, सभी Wifi Networks के नाम show होने लगेंगे।

5. अगर आपको wifi network का नाम अच्छी तरह से याद है तो दिए  गए code को कमांड prompt में टाइप करें और Enter का बटन दबाएँ। netsh wlan show profiles “Wifi NETWORK ” key=clear  ( wifi network की जगह पर अपने wifi नेटवर्क का नाम टाइप करें)

6. अगर आपने Network का name और Command को सही से टाइप किया होगा तो enter बटन दबाने पर आपके सामने कुछ इस तरह की details Show होंगी।

wifi ka password kaise pata kare

7. यहाँ पर सबसे Last  "security setting "tab में Key Content के सामने आपके wifi का Password होगा।



#2 . Mobile से?

Note-: अगर आप अपने Mobile से wifi का password पता करना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे पहले आपको अपने Mobile को Root करना होगा।  लेकिन ध्यान रहे की Root करने के बाद आपके Phone की Warranty अमान्य(voided) कर दी जाएगी और फोन के Dead होने के chances भी बढ़ जाते हैं।

1. अगर आपने फ़ोन को Root कर लिया है तो इनमे से कोई भी एक file Manager app को install कर लीजिये। ( ES file Explorer, The Root Explorer, OI File manager .

2. अब file manager को Open करें और इन Folders को खोलें।  Data→Misc→Wifi 

3. फोल्डर को open करने के बाद  wpa_suppliciant.conf. file या wpa_suppliciant.conf. file  को Text Editor या Html Viewer की मदद से खोलें।

4. File open होने के बाद आप सभी Saved Wifi network के नाम और password देख पाएंगे।
Eg.
Network={
ssid="NETWORK_NAME_HERE"
psk="PASSWORD_HERE"
key_mgmt=WPA-PSK
priority=1

#. Without Root-: ये वाला Method बिना Root वाले Mobile phones के लिए है लेकिन इसके काम करने की संभावना बहुत कम है लेकिन Atleast आप इसे एक बात try जरूर कर सकते हैं।
-: एक बात का ध्यान रहे जिस भी wifi का password आप जानना चाहते हैं वो आपके फ़ोन से connected होना चाहिए।
1. अपने browser में 192.168.1.1 या 192.168.0.1  टाइप और search करें।

2. Search करने पर Router का Page open होगा जिसमे आपसे  Username और password माँगा जायेगा।  दोनों Field में आप common characters जैसे की  admin, admin@123,  आदि try करें।

3. Login Success होने पर Advance या Wireless tab को open करें आपको Password दिख जायेगा।

4. अधिकतर routers में आप password देख सकते हैं लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो आप खुद का password Create कर सकते हैं।

5. यदि  Router के page पर Login failed हो रहा है तो इसका मतलब है की Admin ने Default  password को change किया है  जिसे Crack कर पाना मुश्किल है।

तो ये थी हमारी आज की पोस्ट जिसमे मैंने आपको का Wifi ka Password Kaise Pata kare. मुझे उम्मीद है की आपको पोस्ट पसंद आई होगी। यदि आपका पोस्ट से जुड़ा कोई भी सवाल , Suggestion, या problem हो तो आप हमें निचे Comment के माध्यम से पूछ सकते हैं. अगर आपको पोस्ट पसंद आई हो तो इसे share करें और Notification bell  के द्वारा हमें subscribe करें।