आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction कैसे करें Online या Offline


UIDAI ने आधार कार्ड को अपडेट करने या किसी भी तरह के सुधार/आधार कार्ड करेक्शन को ऑनलाइन और ऑफलाइन तरीके से करके लोगों के लिए  आसान बना दिया है।अब आप भी आसानी से अपना आधार कार्ड  में सुधार या आधार  कार्ड अपडेट कर सकते हैं.आधार कार्ड का पता, नाम, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर और आधार कार्ड पर ईमेल आईडी अपडेट या करेक्शन के लिए निचे दिए गए  Steps को follow करें.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction


#. आधार कार्ड में सुधार या किसी गलती को ठीक करना क्यों जरूरी है ?

हर एक भारतीय नागरिक के लिए आधार कार्ड  महत्वपूर्ण  और जरूरी हो चुका है, आधार कार्ड बनवाते समय  गलत जानकारी देना ,Spelling mistakes और अन्य गलतियों के कारण  आपके आधार  विवरण या personal Detail में बहुत सी समस्याएं हो सकती हैं।

उदाहरण के लिए -: आधार कार्ड और Pan कार्ड को लिंक करना , जो की बहुत सी Services के लिए प्रभावी रूप से अनिवार्य है, और साथ ही आपकी सभी details इन  दोनों Documents पर Same या मिलते जुलते  होनी चाहिए । अगर आपके Name, Gender और Date Of Birth, दोनों दस्तावेजों  पर समान  नहीं है, तो आपको आधार और पैन को लिंक करने में बहुत सी दिक्कतें आ सकती है या हो सकता है की आपका पैन और आधार लिंक ही न हो पाए. इसके अलावा बहुत से ऐसे अन्य कारण भी हो सकते हैं जिनके लिए आपको अपने 12 अंकों के Unique Identity Proof को अपडेट करने की जरूरत पड़ेगी. जैसे की अगर आपका आधार कार्ड निष्क्रिय हो जाये.

UIDAI के Helpline और आधार नामांकन केंद्र के अधिकारियों के अनुसार, यदि आपने लगातार 3 सालों से  किसी भी लेनदेन या Transactions के लिए अपने आधार का उपयोग नहीं किया है(जैसे कि आपके बैंक खाते या पैन को लिंक करना )तो आपका आधार कार्ड निष्क्रिय (inactive),हो सकता है। यदि ऐसा होता है, तो आपको अपने आधार को अपडेट करना होगा।

≻ Bitcoin Kya Hai aur ye Kaise Kaam Karta Hai?
≻ JIO Coin Kya hai Iski Puri jankari Hindi Me

-:आधार कार्ड में सुधार/आधार कार्ड अपडेट/Correction करें Online या offline तरीके-:

अगर आप भी  अपने आधार को अपडेट करना चाहते हैं ,इन तरीकों से आप ऐसा कर सकते हैं.
UIDAI वेबसाइट के अनुसार, आधार में Apni Details को अपडेट या  Corection करने के तीन तरीके हैं:
1. अपने Details को Online अपडेट/सुधार  करें
2. By Post के  द्वारा अपडेट/सुधार करना 
3. अपने नजदीकी Enrolment Center में जाकर


#1. ऑनलाइन अपडेट करना/Online-:

आम तौर पर कोई भी व्यक्ति आधार कार्ड पर अपना पता ,नाम, जन्म तिथि, लिंग, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी बदल सकता है। अपने  आधार कार्ड की  Details ऑनलाइन बदलने के लिए या आधार कार्ड अपडेट / बदलाव / सुधार के लिए इन Steps को Follow करें.

Step 1. सबसे पहले तो इस link से  UIDAI की Official Website पर Log On करें.https://ssup.uidai.gov.in/web/guest/update

Step 2. अपना आधार कार्ड नंबर  डालें और Text Verification बॉक्स में 4 नंबरों को सही सही डालें और फिर Send Otp पर क्लिक करें.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction

Step 3. Send Otp पर क्लिक करने के बाद आपके Registered Mobile नंबर पर एक OTP(One Time Password) प्राप्त होगा.

Step 4. OTP और Captcha code को डालें और Submit पर क्लिक करें.


Step 5. अब आपके सामने एक नया page खुलेगा, यहाँ पर आपको उन Fields को चुनना है जिनमे आप सुधार करना चाहते हैं या बदलना चाहते हैं और फिर Submit पर क्लिक करें .
जैसे की अगर आप अपना Address बदलना या सुधार करना चाहते हैं तो Address वाले box को चुने और Submit पर क्लिक करें.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction

Step 6. जिस भी detail को आप सुधार/अपडेट करना चाहते हैं उसके Proof Document को Scan करके  Upload करें.

Step 7. Document Proof upload करने के बाद एक URN(Update Request Number) मिलेगा जिससे आप अपने आधार कार्ड update Process को track कर सकते हैं.

Step 8. URN generated हो जाने के बाद आप Receipt को print कर सकते हैं  या फिर URN की Copy File को download कर सकते हैं.

आधार कार्ड में सुधार/अपडेट/Correction

Step 9. जब आपका आधार कार्ड Updated हो जायेगा तो आप अपना आधार कार्ड  Online ही Download/Print कर सकते हैं.

#2. Enrolment Centre में जाकर आधार कार्ड में सुधार /update/Correction कैसे करें-:

आधार कार्ड धारक अपने नजदीकी आधार नामांकन केंद्र/Enrolment Center पर जाकर  भी अपने आधार कार्ड में सुधार /अपडेट कर सकते हैं .

Step 1. नामांकन केंद्र से आधार Correction Form प्राप्त करें और उसे सही सही  भरें.
इस बात का ध्यान रखें की आपको फॉर्म में सभी  Correct Information को भरना है न की उसे जो आपके आधार में पहले से ही दर्ज है.

Step 2. Form के साथ में जरूरी Document Proof की Self attested(स्वप्रमाणित ) Copy/प्रतियाँ  भी लगायें.
सभी दस्तावेजों को फॉर्म के साथ जमा कर दें.

Step 3. इस पूरी प्रक्रिया के लिए आपसे नामांकन केंद्र के द्वारा  25 रूपए  का  शुल्क लिया जायेगा या जब भी आप अपने आधार सुधार/अपडेट के लिए Enrolment center में जाते हैं तो आपको 25 रूपए निर्धारित शुल्क जमा करना होता है.

Step 4. आप अपनी सभी details जैसे की Biometric डाटा, फोटो, mobile नंबर, पता आदि. को आधार नामांकन केंद्र में Update कर सकते हैं.

#3. आधार कार्ड की Detail को By  Post के द्वारा सुधार/अपडेट कैसे करें-:

आप चाहे तो अपने आधार कार्ड को  Post के द्वारा भी  update कर सकते हैं.

Step 1. सबसे पहले तो दी गयी लिंक से update/correction फॉर्म को Download या Print out निकल लें.
https://nsdl.co.in/downloadables/pdf/Aadhaar-Data-Update-Form-03.pdf

Step 2. अब आपको इस पुरे फॉर्म को भरना है ,फॉर्म भरते समय in बातों का ध्यान रखें.
1. फॉर्म को capital letters/बड़े अक्षरों में ही भरना है.
2. अगर आपके आधार कार्ड में किसी Local language/भाषा का उपयोग किया गया है तो उसी भाषा में इस फॉर्म को भरें.
3. फॉर्म में सभी जानकारी सही सही भरें यानिकी जिस भी जानकारी में आपको सुधार/update करना है उसे सही भरें.
4. फॉर्म में आप जिस भी जानकारी में सुधार कर रहे हैं उसकी Proof Documents की Copy भी  साथ में लगायें.

Step 3. फॉर्म को भरने के बाद पूरी तरह से जांच ले.और निम्न पते पर Speed Post द्वारा भेज दें.

Address 2: UIDAI
Post Box No. 99,
Banjara Hills,
Hyderabad – 500034,
India

#4 . आधार कार्ड में सुधार/अपडेट के लिए जरूरी दस्तावेज़/Documents

1 . अपने नाम में सुधार करने के लिए आपके पास इनमे से कोई भी एक  document होना चाहिए
  • पासपोर्ट
  • पैन कार्ड
  • वोटर कार्ड/Voter Id
  • ड्राइविंग लाइसेंस
2 . Address proof documents
  • पासपोर्ट
  • बैंक का statementजिसमें आपका खाता हो
  • बैंक की पासबुक
  • डाकघर का खाता विवरण या पासबुक
  • राशन कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • सरकार द्वारा जारी फोटो पहचान पत्र
  • पिछला 3 महीने का बिजली बिल
  • टेलीफोन से संबंधित पिछले तीन महीने का लैंडलाइन बिल
3 . Date of birth Document proof
  • जन्म प्रमाणपत्र
  • पासपोर्ट
  • किसी राजपत्रित अधिकारी या तहसीलदार द्वारा प्रमाणित जन्म तिथि प्रमाणपत्र
इन सभी दस्तावेज़ों की सहायता से आप अपने आधार कार्ड में सुधार या update कर सकते हैं."

अगर आपको आधार कार्ड में सुधार या आधार कार्ड अपडेट/Correction करने में कोई भी दिक्कत आ रही हो तो आप कमेंट कर के हमसे पूछ सकते हैं और इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा share जरूर कीजियेगा।


यूट्यूब वीडियो डाउनलोड करने का तरीका- Download Youtube Video In Hindi


यूट्यूब वीडियो डाउनलोड करने का तरीका-How To Download Youtube Videos-:
कई बार ऐसा होता है कि जब हमे यूट्यूब पर कोई वीडियो पसंद आ जाता है तो हम उस वीडियो को डाउनलोड करने की सोचते हैं ताकि हम  उसे बार बार देख सकें लेकिन ऐसा कर नही पाते क्योंकि यूट्यूब पर हम किसी वीडियो को डाउनलोड नही कर सकते. इस समस्या का हल निकालते हुए यूट्यूब ने एक नया feature लांच किया Offline Videos का जिससे आप video को यूट्यूब में ही save करके कभी भी देख सकते हैं लेकिन फिर से यहां पर भी एक समस्या है और वो ये है कि अधिकतर वीडियोस ऐसीं हैं जिन्हें Offline save नही किया जा सकता.
≻ सेंसेक्स क्या होता है 
इसलिए आज में आपको कुछ ऐसे आसान तरीके बताने वाला हूँ जिनकी सहायता से आप यूट्यूब वीडियो डाउनलोड कर पाएंगे.

यूट्यूब वीडियो डाउनलोड

#. यूट्यूब वीडियो डाउनलोड-:

Mobile से यूट्यूब वीडियो की link copy करने का तरीका -:अगर आप youtube App से video के लिंक को कॉपी करेंगे तो वो in Methods में काम नहीं करेगी।
इसलिए mobile से video डाउनलोड करने के लिए अपने Browser में www.youtube.com को ओपन करें और फिर video के लिंक को सबसे ऊपर Address Bar से कॉपी करें।

#. Method 1-: Savefrom.net की सहायता से

Savefrom एक Website है जहां पर आप Youtube Videos को किसी भी Format में या फिर mp3 में भी डाउनलोड कर सकते हैं-:

1.  जिस भी यूट्यूब वीडियो को आप डाउनलोड करना चाहते हैं उस पर जाएं या फिर उस वीडियो को Search करें.

2. अब वीडियो के सबसे ऊपर Address Bar में वीडियो का url  होगा जो कुछ इस तरह से होगा-:www.youtube.com/watch?v=UHHVGIBCYJB

3. अब आपको इस लिंक में आपको Youtube से पहले SS जोड़ना है. SS जोड़ने के बाद लिंक कुछ ऐसा दिखेगा.

यूट्यूब वीडियो डाउनलोड

4. SS जोड़ने के बाद Enter का बटन दबाएं. Enter दबाने के बाद Savefrom की वेबसाइट खुलेगी कुछ इस तरह से.

यूट्यूब वीडियो डाउनलोड

5. अब आपको जिस भी Format में वीडियो को डाउनलोड करना है उसे Select करें और Download पर क्लिक करें.


#. Method 2-: VLC media player की सहायता से.

VLC मीडिया प्लेयर Computer और Mobile के लिए  एक Music और Video प्लेयर है और इसके द्वारा आप यूट्यूब वीडियो डाउनलोड भी कर सकते हैं लेकिन कैसे? तो चलिए मैं आपको बताता हूं कि कैसे-

1. सबसे पहले जिस वीडियो को आप डाउनलोड करना चाहते हैं उसे search करें.

2. सर्च करने के बाद Address Bar से उस वीडियो के url को Copy करें.

3. लिंक कॉपी करने पर कुछ ऐसा दिखेगा-: https:// www.youtube.com/watch?v=UHHVGIBCYJB
अब VLC मीडिया प्लेयर को Open करें.अगर आपने VLC डाउनलोड नही किया है तो यहाँ से डाउनलोड कर लें.

4. अगर आप Windows user हैं तो Left साइड में सबसे ऊपर Media पर क्लिक करें और Open Network Stream को ओपन करें.
-: Mac user File पर क्लिक करें और फिर Open Network को ओपन करें.

5. अब url वाले Box में यूट्यूब वीडियो का Link पेस्ट कर दें जिसे आपने कॉपी किया था. और play(Windows) या Open(Mac) पर क्लिक करें.

6. Windows यूजर Tool पर क्लिक करें और Codec Information पर क्लिक करें.
-: Mac यूजर Window पर क्लिक करें और Media Information पर क्लिक करें.

7. अब यहां पर आपको सबसे नीचे एक Location बॉक्स दिखेगा कुछ इस तरह का , इस Box के  Url को आपको Copy करना है.


8. Windows यूजर Location box पर Right click करें और Select all पर क्लिक करें और लिंक को कॉपी कर लें.
-: Mac यूजर Location बॉक्स पर Right Click करें और Open Url को select करें, link खुद ही browser में ओपन हो जाएगी.

9. अब आपको कॉपी किये हुए लिंक को अपने Browser में पेस्ट करना है और Enter दबाना है.(सिर्फ Windows user के लिए)

10. Enter दबाने पर Video ओपन हो जाएगा अब आपको Video पर Right क्लिक करना है और Save Video As पर क्लिक करना है.

11. जिस भी फोल्डर में आपको वीडियो को Save करना है उसे Select करें और Video का नाम भी चेंज कर लें क्योंकि video का Default name Videoplayback ही सेट रहेगा.

≻ Bitcoin Kya Hai aur ye Kaise Kaam Karta Hai?

#. Method 3-: KeepDownloading की सहायता से यूट्यूब वीडियो डाउनलोड

1. सबसे पहले youtube में जाकर उस वीडियो का लिंक कॉपी कर लें जिसे आप डाउनलोड करना चाहते हैं.

2. अब Keepdownloading.com को ओपन करें.

3. यहां पर Enter the Link वाले बॉक्स में वीडियो का Link paste करें और Free Download पर क्लिक करें.

4. क्लिक करने के बाद एक Download page खुलेगा जिसमे उस video के अलग अलग Size के Video और Audio format आप डाउनलोड कर सकते हैं.
≻ 2018 Ke Top 5 Smartphones Under 15,000

तो ये थे यूट्यूब वीडियो डाउनलोड करने के कुछ सामान्य तरीके, मुझे उम्मीद है की आपको ये तरीके पसंद आये होंगे  अगर आपको वीडियो डाउनलोड करने में कोई भी दिक्कत आ रही हो तो आप हमें comment के माध्यम पूछ सकते हैं.इसके अलावा में चाहता हूँ आप इस पोस्ट को सोशल मीडिया और अपने दोस्तों को शेयर जरूर  करें।

इंटरनेट क्या है ये कैसे चलता है -What is Internet In Hindi


इंटरनेट क्या है-What Is Internet In Hindi-:
Internet जिसे हम कभी कभी Net या Web भी कहते हैं,ये एक ऐसी चीज़ है जो आजकल हर किसी व्यक्ति के दैनिक जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है.
अगर Internet है तो कोई भी व्यक्ति एक ही जगह बैठकर पूरे दिन भर अपना Time pass कर सकता है या घर बैठे अपने Mobile या Computer से Internet पर बहुत सारे काम कर सकता है.इंटरनेट का हमारे जीवन इस प्रभाव पड़ चुका है कि हम 1 मिनट भी Internet के बिना नही रह सकते हैं.

≻ How to use Paytm In Hindi
Credit Card kya Hota hai

आजकल हर कोई अच्छी तरह से जानता है कि इंटरनेट कैसे चलाना है या फिर इसके क्या क्या उपयोग हैं लेकिन बहुत ही कम लोग ये जानते हैं कि इंटरनेट क्या है?ये कैसे बना और इसे किसने बनाया? मेरा मानना ये है कि अगर हम अपने Daily Life में किसी चीज़ का उपयोग कर रहे हैं तो हमे उसकी सामान्य जानकारी तो जरूर होनी चाहिए.इसलिए आज में आपको बताऊंगा की इंटरनेट क्या है(What is Internet In Hindi) और ये कैसे काम करता है.

 Internet kya hai ye kaise kaam karta hai

#1. इंटरनेट क्या है-:What Is Internet In Hindi?

क्या आप सोच सकते हैं कि एक समय ऐसा भी था जब आप Facebook, Twitter, Email, Snapchat, Whatsapp Chat आदि. कुछ भी नही कर सकते थे क्योंकि ये सबकुछ संभव नही हुआ करता था. लेकिन आज ये सभी चीज़ हम कुछ ही Seconds में कर सकते हैं, घर बैठे ही किसी दूर के व्यक्ति से बात कर सकते हैं, Video Call कर सकते हैं और ये सब कुछ संभव हुआ है Internet की मदद से. 

Webopedia के अनुसार,इंटरनेट बहुत सारे आपस मे जुड़े हुए या Connected Networks का एक Worldwide system है.हर एक नेटवर्क बहुत सारे Computers, Servers, Routers और Printers से मिलकर बना हुआ है.सामन्यतः आप Internet को एक Telephone network की तरह ही समझ सकते हैं,बहुत से लोग इसका उल्लेख(Refer) एक Information Super Highway की तरह भी करते हैं. 

#2. इंटरनेट को किसने बनाया?

इंटरनेट की शुरुआत 1969 में हुई थी,इसे U.S Defence Department(आमेरिकी रक्षा विभाग) ने बनाया था,सबसे पहले Internet network को Advanced Research Project Agency Network(ARPANET) का नाम दिया गया था. 

अमेरिकी सरकार का Internet को बनाने का मुख्य मकसद ये था कि किसी भी अमेरिकी यूनिवर्सिटी(US University) में रिसर्च करने वाले scientist यूनिवर्सिटी के Computers से किसी दूसरी यूनिवर्सिटी के Scientists से आपस मे बात कर सकें और जिस भी Research पर वो काम कर रहें हैं उसकी जानकारी का आपस मे लेनदेन कर सकें.

≻ Whatsapp Se Paise Kaise Kamaye Puri Jankari Hindi Me

शुरुआत में इसे एक गुप्त नेटवर्क(Private Network) के तौर पर बनाया गया था और इसके शुरुआती दौर में कोई भी व्यक्ति या User बिना किसी Permission के किसी भी दूसरे Computer को न कोई जानकारी भेज सकता था और न ही कोई जानकारी ले सकता था.लेकिन आज Internet के उपयोग Public, Cooperative और Self Usable है और कोई भी इसका उपयोग कर सकता है. 

#3. इंटरनेट काम कैसे करता है?

हम जान चुके हैं कि इंटरनेट क्या है और इसकी शुरुआत कैसे हुई थी?अब हम बात करेंगे कि इंटरनेट काम कैसे करता है.

≻ Bitcoin Kya Hai aur ye Kaise Kaam Karta Hai?
≻ JIO Coin Kya hai Iski Puri jankari Hindi Me

अपने Computer या मोबाइल पर इंटरनेट की मदद से आप किसी दूसरे व्यक्ति से संपर्क कर सकते हैं, बात कर सकते हैं, किसी भी तरह की जानकारी, Multimediaजैसे कि फ़ोटो,वीडियो,मैसेज आदि का आदान प्रदान कर सकते हैं. और ये सब कुछ संभव हो पाता है इन चीज़ों की वजह से.

HardWare-: बहुत सारी optical Fiber cables या फाइबर की तारों की मदद से इंटरनेट चलता है.जिस तरह से टेलीफोन कम्युनिकेशन के लिए तार बिछाई जाती है ठीक उसी तरह से इंटरनेट के लिए भी पूरी दुनिया मे Optical Fiber की तार बिछाई गई है.आम तौर पर इन तारों को समुद्र के नीचे बिछाया जाता है जिसे Submarine Cable भी कहते हैं.समुद्र के नीचे बिछाये जाने का कारण ये है ताकि इन तारों को कोई नुकसान न पहुंचे.

                            internet cables kya hai

Server-: Server/सर्वर एक Computer या Data Center होता है जो सभी Websites को स्टोर/संग्रह करके रखता है.सर्वर का काम किसी भी User/clients को किसी भी वेबसाइट से कनेक्ट करने के लिए या फिर किसी वेबसाइट में मौजूद जानकारियों को Access करने के लिए अनुमति देने का होता है. इसे हम Hosting server भी कहते हैं. 

Clients-: Client का मतलब है की ऐसा computer जिसपर Internet का उपयोग किया जा रहा है जैसे कि -:लैपटॉप, कंप्यूटर,मोबाइल,टेबलेट आदि. सभी Clients का खुदका एक Unique Address ya पता होता है जिसे IP(Internet protocol)Address भी कहा जाता है.

≻ 2018 Ke Top 5 Smartphones Under 15,000
≻ JIO 4G ki Speed Kaise badhay

Internet Service Provider(ISP)-: Internet service Provider या ISP का मतलब है कि ऐसी कंपनियां या आर्गेनाईजेशन होती है जो कस्टमर्स या आम लोगों को Internet Connection प्रदान करती हैं और सजे बदले में हमें उन्हें पैसे देने होते हैं.ISP कंपनियां नई टेक्नोलॉजी से Internet डाटा को संचारित या transmit करती हैं जैसे कि-: DSL, Cable के द्वारा, Wifi, Broadband आदि. 

Routers-: राऊटर को हैम ट्रैफिक कंट्रोल कम्प्यूटर्स भी कहते हैं. 2 या उससे ज्यादा इंटरनेट नेटवर्क के बीच मे जब भी किसी information का आदान-प्रदान किया जाता है तो Routers उस information को बिना किसी रुकावट के उसकी सही जगह तक पहुंचा देता है या फिर हम कह सकते हैं कि राऊटर 2 या उससे ज्यादा नेटवर्क को आपस ने जोड़ने के काम करता है. 

ये एक Dispatcher/Controller का काम करता है ताकि जिस भी जानकारी का Internet पर आदान प्रदान किया जा रहा है वो अपनी सही जगह पर पहुंचे और बहुत ही तेज़ी से या जल्दी पहुँचे. 

Domain Name System/Server-: इंटरनेट पर किसी भी Website को ओपन करने के लिए Domain Name System(DNS) बहुत जरूरी होता है. सामान्यतः जब भी हम इंटरनेट पर कोई वेबसाइट(www.example.com)  Search करते हैं तो DNS उस Web Address को एक IP Address में Translate करके उस Website को उसके Hosting Server से कनेक्ट कर देता है.Hosting सर्वर से कनेक्ट हो जाने पर Website ओपन हो जाती है और website पर मौजूद सभी जानकारी हमे मिल पाती है. 


#4. India में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई?

15 अगस्त,1995 को विदेश संचार निगम लिमिटेड(VSNL) ने पूरे भारत मे सभी लोगों के लिए Internet सेवाएँ जारी की थी,आज भारत मे इंटरनेट को पूरे 22 साल हो चुके हैं. 

शुरुआत में India में इंटरनेट की अधिकतम स्पीड सिर्फ 50kbps थी इसके बाद 2002 ने रिलायंस ने CDMA सर्विस को launch किया था जिसके बाद से Mobile में Internet चलाने की लोकप्रियता बढ़ गयी थी.

#5. Internet के फायदे और नुकसान?

#1. Advantages(फायदे )
  • इंटरनेट की सहायता से हम पूरी दुनिया से जुड़े रह सकते हैं.
  • किसी भी समय या 24 घण्टे इसका उयोग कर सकते हैं.
  • इंटरनेट की मदद से हम अपने व्यवसाय, व्यक्तित्व आदि को विकसित कर सकते हैं.
  • Online बात चीत, वीडियो कॉल, फ़ोन, आदि भी इंटरनेट की वजह से ही सम्भव हो पाता है.
  • इंटरनेट से हम किसी भी तरह की Payment ले भी सकते हैं और दे भी सकते हैं जैसे कि – बैंक ट्रांसफर, नेट बैंकिंग, बिल, रिचार्ज आदि.

#2. Disadvantages(नुक्सान )
Internet के आने पर बहुत सी नई चीजों का विकास हुआ है लेकिन इसकी वजह से बहुत सी ऐसी चीजों की भी शुरुआत हुई है जो Internet के सबसे बड़े नुकसान हैं जैसे कि-: 
  • Spamming
  • Hacking(हैकिंग करना)
  • Internet Viruses
  • Cheating(धोखाधड़ी )
  • Cyber Crimes(साइबर अपराध )
  • Identity theft(खुद की पहचान चोरी होना )
  • Depression( इंटरनेट का आदि हो जाने पर तनाव जैसे समस्याएं होना

#. निष्कर्ष-:What is Internet In Hindi

आज लगभग करोड़ों लोग हर दिन इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं.कुछ इसका सदुपयोग करते हैं तो कुछ इसके द्वारा गलत कामों (साइबर अपराध) को अंजाम देते हैं. बहुत से लोगों ने इंटरनेट और ही अपना भविष्य विकसित किया है और इसे ही अपनी आय का स्त्रोत बनाया है. लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी हैं गलत तरीके से इंटरनेट का उपयोग करके पैसे कमाते हैं या किसी अपराध को अंजाम देते हैं और बाद में उन्हें पछताना पड़ता है.  
इन बातों से मेरा मतलब ये है कि हमे Internet का उपयोग तो करना चाहिए लेकिन एक सीमा में रहकर.क्योंकि अगर इसकी लत लग जाये तो इससे बाहर निकलना बहुत मुश्किल होता है। इसके अलावा इंटरनेट का use पूरी सुरक्षा के साथ करना चाहिए ताकि आगे चलकर आपको किसी hacking, spamming, और किसी धोखाधड़ी का शिकार न होना पड़े. 

मुझे उम्मीद है कि अब आप जान गए होंगे कि इंटरनेट क्या है-what is Internet In Hindi ,और ये कैसे चलता है. मैं चाहता हूं कि आप इस पोस्ट को अपने जभी दोस्तों, और सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें ताकि और भी लोगों को internet की सामान्य जानकारी मालूम हो सके.


कम खर्च वाले 11 नए बिजनेस आइडिया- business ideas in hindi 2018


Business Ideas In Hindi -नए बिज़नेस आइडिया-:
आज के समय में भारत जैसे बड़े देश में रोजगार की बहुत कमी है और लाखों युवा बड़ी बड़ी डिग्री  होने के बावजूद भी बेरोजगार हैं. ऐसे में हर किसी के मन में एक न एक बार ये सवाल जरूर आता है की क्यों न कोई Business  कर लिया जाये? कोनसा बिज़नेस करें ? लेकिन फिर आप सोचते होंगे की Business  करने के लिए तो बहुत सारे पैसों की भी जरूरत पड़ेगी और इतना सारा पैसा कहाँ से लाया जाये।
लेकिन जरूरी नहीं की हर बिज़नेस के लिए आपके पास बहुत सारे पैसे होने चाहिए क्युकी आज भी बहुत से ऐसे बिजनेस हैं जिनपर आपको बहुत कम निवेश या कुछ भी निवेश करने की जरूरत नहीं होती और हर महीने एक अच्छी आय भी कमा लेते हैं.

इसलिए आज के इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा कुछ नए बिज़नेस  आइडिया(Business Ideas In Hindi )जिन्हे आप आज ही शुरू कर सकते हैं और हर महीने पैसे कमा सकते हैं.

Business ideas in hindi


Business Ideas In Hindi-:

#1. Mobile Phone Repair, Accessories, Recharge Shop

भारत में अभी लगभग 300 मिलियन Smartphone यूजर्स मौजूद हैं। और आगे भी यह आंकड़ा तेजी से बढ़ता रहेगा क्योंकि अधिक ब्रांड और सस्ते Variants वाले स्मार्टफोन हर दिन बाज़ार में प्रवेश करते रहते हैं।

इसीलिए आउटलेट, रिचार्ज और मोबाइल फोन की मरम्मत करने वाले व्यक्तियों की मांग भी हर दिन बढ़ने लगी है, इसलिए Mobile फ़ोन की Repair,Accessories का business भी Profit से भरा है. इसके अलावा आप Mobile recharge ,Data Recharge की सेवाएं भी प्रदान कर सकते हैं.

#2. Tiffin Service Business

यह व्यवसाय खासतौर पर महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ लघु व्यवसाय विचारों में से एक है.आजकल घर और काम में भोजन और Tiffin के लिए डिलीवरी की मांग में काफी बढ़ोतरी हुई है।

आप अपने छोटे व्यवसाय को अपने रसोई घर से ताजा, पौष्टिक भोजन की तैयारी करके और उन्हें विभीन्न कार्यालयों और घरों में Tiffen Service के रूप में Supply करके लॉन्च कर सकते हैं.

#3. Travel Agency 

Travel Agency की स्थापना करना बहुत ही आसान व्यवसाय है। यह कम लागत और आसानी से Setup किया जाने वाला Business है जिसे आप बहुत ही छोटे या लगभग 50,000रु निवेश करके शुरू कर सकते हैं और लगभग र 5,000 / - प्रति दिन आसानी से कम सकते हैं.
आपको बस सरल तरीके से Counter Table,Computer,Inverter और Printer के साथ एक छोटा Office स्थापित करना है।

शुरू में आप किसी Third party की वेबसाइट जैसे MakeMyTrip,Redbus,IRCTC आदि का उपयोग कर सकते हैं। शुरुआत में आप उड़ानों, बसों और ट्रेनों को बुक करने के लिए 50-100 प्रति बुकिंग तक कमीशन शुल्क charge कर सकते हैं और धीरे-धीरे आप उन Travel Agencies के Direct agent बन सकते हैं.

#4. Photographer

एक फोटो ग्राफर बनना अपने आप में ही एक अच्छा business है. अगर आप तस्वीरें लेने के शोकीन हैं और अच्छी तस्वीरें Click कर सकते हैं तो आप अपने इस हुनर को Profit में बदल सकते हैं और एक Professional Photographer बन सकते हैं
.
शादियों, रिसेप्शन, वर्कशॉप,सेमिनार,concerts,प्रदर्शनियों, और अन्य व्यक्तिगत और व्यवसायिक अवसरों पर लोग हमेशा Professional Photographers को बुलाते हैं.ये एक फायदेमंद व्यवसाय है इसमें आपको सिर्फ Photography के लिए जरूरी सामग्री जैसे की- कैमरा, और फोटोग्राफी से Related Gadgets पर ही निवेश करना होगा.


#5. Blogging

Blogging का मतलब है कि किसी भी Topic पर अपने विचारों और जानकारी को Internet और एक Blog/Website के माध्यम से लाखों लोगों तक पहुंचाना,ऐसा करने से Internet पर आपकी एक पहचान बनती है और साथ ही साथ हर महीने हज़ारो/लाखों रुपये भी कमा सकते हैं.

अगर आपको किसी भी Topic या Subject की बहुत ही अच्छी जानकारी है तो आप उस जानकारी को Blogging के माध्यम से जरूरतमंद लोगों तक पहुँचा सकते हैं और पैसे कमा सकते हैं.
Blogging को आप Free में शुरू कर सकते हैं या फिर बहुत ही कम रुपये खर्च करके भी शुरू कर सकते हैं.
अगर आप नियमित रूप से अपने Blog पर Quality से भरे Article लिखते हैं तो लगभग 6 महीने में आप अपने Blog से पैसे कमाने लगेंगे.

ब्लॉगिंग से पैसे कमाने के बहुत से तरीके हैं जैसे कि Advertising, Affiliate marketing, Paid Promotion इत्यादि.
Blogging कैसे करे और इससे पैसे कैसे कमाएँ स संबंधित जानकारियों के लिए आप हमारी Blogging से संबंधित Posts को पढ़ सकते हैं.

#6. Youtube 

जिस तरह से आप अपने मनोरंजन या किसी भी जानकारी के लिए Youtube पर Videos देखते हैं उसी तरह आप अपनी वीडियोस भी youtube पर Upload  करके लोगों का मनोरंजन कर सकते हैं और इसके साथ बहुत सारे पैसे भी कमा सकते हैं.

इसके लिए सबसे पहले आपको एक Topic चुनना होगा जैसे कि मनोरंजन,कॉमेडी, Tutorial  आदि जिसपर आप वीडियोस बनाएंगे, ध्यान रहे कभी किसी दूसरे की वीडियोस को कॉपी बिल्कुल न करे क्योंकि ऐसा करने पर आपका channel हमेशा के लिए बन्द हो सकता है.

एक Topic चुनने के बाद आपको उस Topic पर वीडियोस बनानी है और उन्हें अपने Channel पर अपलोड करना है.

जैसे जैसे आपके Youtube Channel पर Subscribers और वीडियोस पर Viewers बढ़ने लगे तो आप अपनी वीडियोस को पैसे कमाने के लिए Monetize कर सकते हैं.
Youtube पर आप Advertising, Affiliate marketing, paid promotion के जरिये लाखों रुपये कमा सकते हैं


#7. Tution Center

Tution  या Coaching सेंटर आज के दिन में एक फायदेमंद व्यवसाय है जिसे आप बहुत ही कम खर्चे पर या 0 रुपये में भी शुरू कर सकते हैं.अगर आपका खुदका घर है तो अपने घर पर ही आप Tution center की शुरुआत कर सकते हैं, या फिर किराये के घर पर.

सबसे पहले तो आपको ये तय करना होगा कि आप किस Level तक के students को पढ़ाएंगे. अगर आप Graduated हैं तो 12th तक Students को पढ़ा सकते हैं और अगर Postgraduated हैं तो College level तक के students को पढ़ा सकते हैं.

सिर्फ Graduate या postgraduate होने से ही काम नही चलेगा आपको सभी Subjects या किसी Particular Subject की अच्छी तरह से जानकारी होनी चाहिए जिसपर आप Tution पढ़ाएंगे.

#8. Juice Center/Corner

Juice कॉर्नर भी आज के समय मे एक बेहतर व्यवसाय है. मौसम चाहे कैसा भी हो आज कल हर कोई ताज़े फलों का रस या जूस पीना पसंद करता है और डॉक्टर भी इसकी सलाह देते हैं. ये एक High profit वाला व्यवसाय हो सकता है अगर आप इसे एक सही युक्ति(Strategy) के साथ शुरू करें तो.

एक Juice Center खोलने के लिए आपके पर 2 Option हैं, पहला Juice Bar/Shop जिसके आपको Shop की जरूरत पड़ेगी, और दूसरा Mobile Juice Corner जिसे ठेला भी कहा जाता है. लेकिन दोनों के लिए आपको ऐसी जगह को चुनना होगा जहां पर भीड़ ज्यादा हो जैसे कि बाजार, पार्क, स्कूल,कॉलेज के आस पास.

इस व्यवसाय में आपको लगभग 30-50,000 रुपये तक निवेश करने पड़ेंगे और कम से कम 1 Helper की जरूरत भी पड़ेगी.इसके अलावा कुछ जरूरी चीज़े जैसे कि-

-:Raw Material
नियमित रूप से आपको ताज़े फलों और सब्जियों की जरूरत पड़ेगी, विभीन्न तरह के शेक के लिए दूध, बर्फ, Ice Cream,  और Extra Topping के लिए Strawberry आदि.

-:Equipments
Juice निकालने की मशीन, एक छोटा फ्रीज(बर्फ को Store करने के लिए), Glass, Straw, और अन्य बर्तन.

#9. Online Business 

आप इंटरनेट पर भी Business करके लाखो रुपये कमा सकते हैं, internet पर बहुत से ऐसे व्यवसाय हैं जिन्हें आप घर बैठे या Office से भी कर सकते हैं वो भी बिना किसी Investment के.
इस बारे में मैंने एक पोस्ट लिखी जिसमे मैंने बताये हैं Online Business ideas in hindi 2018 अधिक जानकारी के लिए आप ये पोस्ट पढ़ सकते हैं.

#10. Mushroom Cultivation(मशरुम की खेती)

मशरूम की खेती और इसका उत्पादन एक Best व्यवसाय है. मशरूम में बहुत से औषधीय गुण पाए जाते हैं और इसके प्रोटीन, फाइबर और अमीनों एसिड जैसे तत्व पाए जाते हैं.मशरूम 100% शाकाहारी भोजन है और Diabetes  और जोड़ो के दर्द के लिए अच्छा माना जाता है.

मशरूम का उपयोग करके अचार, सूप पाउडर, स्वास्थ्य पाउडर, कैप्सूल, सब्जी, पकोड़े आदि बनाये जा सकते हैं. इसमे कोलेस्ट्रॉल नही होता और ये खून को सुद्ध रखता है.
मशरूम के उत्पादन के लिए बहुत की कम जमीन की जरूरत होती है और शिक्षित या अशिक्षित युवाओ के लिए ये रोजगार का एक बेहतर स्त्रोत है.

मशरूम की खेती करने से पहले आपको ये तय करना होगा कि कोनसी प्रजाति के मशरूम की खेती करने वाले हैं क्योंकि मशरूम की बहुत सारी प्रजातियां होती हैं.
मशरुम की खेती करने के लिए सबसे जरूरी चीज़ है एक निर्धारित तापमान और नमी(Temprature एंड Humidity) की इसके बाद आपको किसी horticulture Institute से Organic Seeds/बीज खरीदने होंगे इसके अलावा खाद तैयार करना, खाद और बीजों का मिश्रण, और कटाई जैसे कार्य भी इसमें शामिल होते हैं.

#11. Bakery(बेकरी)-Business ideas in hindi

एक बेकरी  का व्यवसाय करने के लिए बहुत सारा समय और प्रयास की जरूरत होती है, हम पहले ही जानते हैं की Backries खासतौर पर Birthday cakes,Cookies और अन्य तरह के Tasty Stuffs के लिए जानी जाती हैं.

एक बेकरी का व्यवसाय खोलने के लिए आपको कुछ जरूरी Steps जैसे की एक बेहतर जगह, लाइसेंस ,Manpower(श्रमशक्ति), मार्केटिंग आदि की जरुरत पड़ेगी और इन सबमे आपको लगभग 5-10  लाख रूपए तक निवेश करने पड़ेंगे.

इसके अलावा कभी भी Quality के साथ Compromise न करें, और हमेशा दुसरे बेकर्स से अच्छी quality Provide करें.हमेशा अपने प्रोडक्ट्स में नई-नई Innovations और Creativeness करते रहें, ऐसा करने से लोग कुछ नई चीज़ के लिए  बार बार आपके पास आते रहेंगे .
इसके साथ साथ आप अपने इस व्यवसाय को Online भी Provide कर सकते हैं और social media जैसे बड़े platforms पर अपने Business की Marketing और promotion कर सकते हैं.

#12. Food Trucks

छोटे शहरों के लिए Food Trucks अब कोई विदेशी concept नहीं रहा हम इसे  छोटे ठेलों का एक Upgrated रूप भी कह सकते हैं  , Food Trucks को  Mobile eating Points भी कहा जाता है जहाँ पर उचित मूल्य में हर प्रकार के व्यंजन मौजूद होते हैं.

Food ट्रक business के लिए आपको किसी जगह या दुकान की जरूरत नहीं होती और इसकी एक खासियत ये है की आप इसे किसी भी समय अलग अलग जगहों पर स्थापित कर सकते हैं जैसे की दोपहर में किसी Office या College के बाहर, शाम को किसी पार्क या बाज़ार में या कभी highway पर पार्क करके आप इस व्यवसाय से अच्छे खासे पैसे कमा सकते हैं वो भी बहुत कम निवेश करके.

तो ये थी हमारी आज की पोस्ट जिसमे मैंने आपको बताये नए बिज़नेस आइडिया,Business Ideas In Hindi.मुझे उम्मीद है की आपको हमारा पोस्ट पसंद आया होगा और आगे भी हम नए नए Business की जानकारियां आप तक पहुंचाते रहेंगे, मेरी आपसे Request  है की हमारी इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर और अपने सभी मित्रों तक पहुचायें ताकि उन्हें भी बिज़नेस करने से सम्बंधित कुछ जरूरी जानकारी मिल सके.


म्यूच्यूअल फंड्स क्या है | म्युचुअल फंड कैसे ख़रीदे- Mutual Funds in Hindi


#1. म्यूच्यूअल फंड्स क्या है -Mutual Funds In Hindi

म्युचुअल फंड एक ट्रस्ट(Trust) या एसेट मैनेजमेंट कंपनी(Asset Management Company)के रूप में कार्य करते हैं इनका काम विभिन्न Different निवेशकों(Investors) से पैसे Collect करके उस पैसे को manage करने का होता है । इसके बाद ये कुछ वित्तीय लक्ष्यों(Financial Goal) या Profit को प्राप्त करने के लिए बहुत सी संपत्तियों और Projects में इन पैसों का निवेश(Invest) करते हैं ।
अगर दूसरे शब्दों में कहें तो म्यूच्यूअल फंड्स Trust के रूप में कार्य करते हैं, जो Investors की बचत(savings) को मजबूत करते हैं और उन्हें लाभ कमाने के लिए फंड में पुन: निवेश(ReInvest) करते हैं और जितना भी Profit होता है उसे निवेशकों(Investors) में बाँट दिया जाता है  और  इसके बदले में, Asset Management Companies इस Service के लिए शुल्क(Fee) के रूप में एक निर्धारित  धनराशी (Amount) charge कर लेते हैं.Mutual Funds In Hindi

Mutual Funds In Hindi

#2. म्युचुअल फंड के प्रकार(Types Of Mutual Funds In Hindi)

Mutual Fund की अवधि कितनी होगी इस आधार पर इसे 2 भागों(Parts) में बांटा गया है , म्युचुअल फंड को 2 मुख्य श्रेणियों में बांटा गया है - Open Ended और Close Ended।

-: Open Ended(ओपन एंडेड) - इस प्रकार के Mutual Fund में कोई भी निश्चित तिथि नहीं होती की कब ये योजना बंद हो जाएगी. यानिकी Investors को ये नहीं मालुम होता की ये योजना(Scheme) कब तक चलेगी और कब बंद होगी.

〉  Bitcoin Kya Hai.

-: ओपन एंडेड स्कीम के प्रकार

#1. Debt/Income(ऋण / आय:)

एक Debt/Income योजना में, धन का एक प्रमुख हिस्सा डिबेंचरों, गिल्ट फंड, सरकारी प्रतिभूतियों(Debentures, Gilt Fund, Government Securities)और अन्य ऋण साधनों में Invest किया जाता है। यह एक कम जोखिम( Low Risk) वाला निवेश विकल्प है जो स्थिर आय(Steady Income) के साथ निवेशकों(Investors) के लिए Best option है।

या फिर कहें तो इस  प्रकार के फंड कम जोखिम वाले होते हैं, क्योंकि ये किसी प्रकार के जोखिम को नहीं लेते हैं। ये योजनाएं ऋण संबंधी प्रतिभूतियों(Securities) जैसे वाणिज्यिक कागजात(Commercial Papers),Bonds में निवेश करती हैं, ये आपको एक बेहतर रिटर्न दे सकते हैं।

≻ पेटीएम क्या है- How To Use Paytm In Hindi
≻ Internet kya hai Ye Kaise Kaam Karta Hai- The Ultimate Guide In Hindi


#2. Money Market

अपने अधिशेष धन (Extra savings) का उपयोग करने वाले Investors इन कम समय वाले निवेश विकल्पों (Short-term Investments Options) में Invest कर सकते हैं, जो निवेशकों को उचित रिटर्न(Reasonable Returns) प्रदान करते हैं।

#3. Equity Growth Funds(इक्विटी / ग्रोथ फंड्स)

Equity निवेश, Retail Investors के बीच म्यूचुअल फ़ंड का एक popular रूप हैं। ये एक कम समय(Short Term) में उच्च जोखिम(High Risk)वाला निवेश है , लेकिन निवेशक आगे चलकर उच्च पूंजी (High capital) की उम्मीद कर सकते हैं। यदि आप लंबे समय तक लाभ की तलाश कर रहे हैं और जोखिम लेने के लिए तैयार हैं , तो Equity Growth Fund आपके लिए एक Best Investment  Option हैं।

#4. Index Scheme(सूचकांक योजना:) 

ये निवेश निफ्टी, सेंसेक्स,(Nifty,Sensex) जैसे BenchMark Index की आवाजाही की ही  नकल करते हैं। ये निवेश Sensex और Nifty की तरह बाजार की स्थितियों और चाल-चलन के अनुसार किया जाता है।

#5. Sector Scheme(सेक्टर स्कीम: ) 

इन Funds को आईटी, आधारिक संरचना , फार्मास्यूटिकल्स, खनन(IT,Infrastructure,Pharmacuticals,Mining) आदि जैसे  क्षेत्रों Sectors में निवेश किया जाता है या फिर पूंजी बाजार(Capital market)जैसे Large Cap,Mid-Cap आदि के क्षेत्रो में निवेश किया जाता है।

#6. Tax Saving Funds(टैक्स सेविंग)

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट रूप से पता चलता है की  यह Mutual Fund sCheme निवेशकों को कर लाभ(Tax Benefits)प्रदान करते हैं। इस तरह के फंड्स आमतौर पर  दीर्घकालिक विकास(Long Term Growth) के अवसर प्रदान करते हैं। Tax Savings Mutual Funds योजनायें आम तौर पर 3 साल की अवधि की होती है।

#7. Balanced(संतुलित)

ये फंड आम तौर पर Equity में 65% और बाकी Debt Securities में निवेश करते हैं। बाजार की स्थितियों के मुताबिक ये योजना Equity Exposure को कम कर सकती है और डेट प्रतिभूतियों में निवेश कर सकती है। Medium Risk appetite(माध्यम जोखिम भोग ) के निवेशक इन Funds में निवेश कर सकते हैं और 10-15% सालाना रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं।


#. Close Ended- इस तरह के फंड्स की एक निश्चित अवधि या समय सीमा होती है.

-: क्लोज-एंडेड स्कीम के प्रकार

Close Ended Scheme में निवेश करने से पहले एक बात का ध्यान रखें की आप  Close Ended योजना में उसी समय निवेश कर सकते हैं, जब उसे शुरू में लॉन्च किया जाता है। इसे New Fund Offer(NFO)Period के रूप में जाना जाता है। इन Mutual Funds समय अवधि तय होती है (Fixed Time Period).

#1. Capital Protection(पूंजी संरक्षण)

इन योजनाओं का मुख्य उद्देश्य Investors को उचित रिटर्न(Reasonable Return) देने की कोशिश करते हुए मूलधन(Principle Amount) को protect करना है। इस तरह की योजनाओं में धन(Fund)को एक  उच्च-गुणवत्ता वाली Fixed Income Securities में  निवेश किया जाता है जिनकी एक निश्चित समय अवधि होती है.

#2. Fixed Maturity Scheme Funds(निश्चित परिपक्वता योजना)

जैसा कि नाम से ही पता  चलता है की  ये  Mutual Fund Schemes एक निर्धारित परिपक्वता अवधि(Fixed Maturity Period) के साथ शुरू की जाती हैं । इस तरह की योजनाओं में किसी प्रकार का सक्रिय व्यापार(Active Trading) शामिल नहीं होता है और इसलिए सक्रिय रूप से प्रबंधित योजनाओं(Actively Managed Schemes) की तुलना में इस योजना में  रिटर्न बहुत कम  होता है।


इन Open Ended और Closed Ended योजनाओं के अलावा,Interval Mutual Funds भी होते हैं  जो Open और Closed Ended Funds के Combination की तरह काम करते हैं ,इस तरह की योजनाएं Investors को पूर्व-निर्धारित अंतराल(Pre defined Intervals) पर units को trade  करने की अनुमति देती हैं।


#3. Mutual Fund में निवेश कैसे करें(How To Invest In Mutual Funds In Hindi)


म्यूचुअल फंड निवेश करना पैसा बनाने के सबसे पसंदीदा तरीकों में से एक है। म्यूच्यूअल फंड्स, Investment Professional के द्वारा प्रबंधित स्टॉक और बॉन्ड का एक collection होता है। यदि आप म्यूचुअल फंड्स में Invest करने की सोच रहे हैं तो इन महत्वपूर्ण Steps को follow करने के लिए तैयार रहें  जैसे की - आपके पास सभी Important Papers होने चाहिए ,Investment के उद्देश्य को जानना और सही Mutual Fund Scheme का चयन करना.

हालांकि, म्यूचुअल फंड निवेश में Beginners को कुछ और चीजें जाननी चाहिए ताकि वे सही निर्णय ले सकें। यहां उन चीजों की एक सूची दी गई है जिन्हें आपको Mutual Funds में निवेश करने से पहले जान लेना चाहिए-:


#1. अपने निवेश के उद्देश्य और एक सही म्यूच्यूअल फंड्स का चुनाव करना

एक निवेश करने का उद्देश्य अच्छी तरह से परिभाषित होना चाहिए , कहने का मतलब है की आप Invesment क्यों करना चाहते हैं - एक कार खरीदने के लिए , घर खरीदने के लिए ,बच्चो की पढाई के लिए ,शादी की योजना के लिए, आदि। यहां तक ​​कि अगर आपके पास कोई लक्ष्य नहीं है, तो आपको यह मालुम होना चाहिए कि आपको कितना पैसा invest करना है और कितना समय तक के लिए आपको इसमें बने रहना है.

योजना के उद्देश्यों को अच्छी तरह से समझने के लिए योजना संबंधित सभी  दस्तावेज़ों को ध्यान से पढ़ना चाहिए और ये जान लेना चाहिए की क्या ये योजना आपके सभी उद्देश्यों को पूरा करने योग्य है या नहीं।

हमेशा" Savings का उद्देश्य "और" उस वर्ष का निर्णय कर लें जब आपको अपने पैसे की ज़रूरत होगी। ऐसा करना आपको विभिन्न Mutual Fund Options के Basis जैसे की -जोखिम का स्तर, लॉक-इन अवधि, भुगतान पद्धति(Payment Method), आदि को Filterकरने में मदद करेगा।


#2. अपनी जोखिम लेने की क्षमता को तय कर लें

यदि आप एक नए निवेशक हैं, तो आपको एक बात जान लेनी चाहिए की India में बहुत सारे Mutual Funds उपलब्ध हैं, कुछ कम जोखिम वाले हैं तो कुछ ज्यादा जोखिम वाले हैं।इसलिए आपको अपनी जोखिम लेने की क्षमता के अनुसार ही किसी योजना का चयन करना चाहिए.एक बात का ध्यान रखें की अगर कोई योजना उच्चतर रिटर्न प्रदान करती हैं तो उसमे उतने ही ज्यादा जोखिम(Risk) की समभावना(Possibility) भी होती है इसलिए किसी भी Scheme को चुनते समय दिमाग से काम ले क्युकी ये आपका पैसा और भविष्य है.


#3. योजना का चयन और निवेश की स्थिति

दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों की योजना के लिए आपको हमेशा एक योग्य म्यूचुअल फंड सलाहकार की मदद लेनी चाहिए. वे आपकी प्राथमिकताओं के अनुसार आपके लिए एक बेहतर Scheme (तरल, ऋण, हाइब्रिड या इक्विटी), Option( विकास, लाभांश भुगतान या पुनर्गठन), Strategy (एसआईपी, एकमुश्त, एसटीपी, एसडब्ल्यूपी, आदि) को सूचीबद्ध कर सकते हैं।


#4. फंड का पिछला प्रदर्शन देखें

अगर देखा जाये तो इस बात की गारंटी नहीं होती की अगर किसी फंड ने इससे पहले अच्छा प्रदर्शन किया है तो आगे भी वो अच्छा की प्रदर्शन करेगा. इसीलिए आपको फंड में निवेश करने से पहले सभी Funds की पिछली performance रिपोर्ट देख लेनी चाहिए और सभी Funds की तुलना एक दुसरे के साथ करनी चाहिए और जो बेहतर लगे उसी में निवेश करना  चाहिए.

इसके अलावा आपको ऐसे फंड को चुनना चाहिए जिसका प्रदर्शन हमेशा से बेहतर औए समान रहा हो.


#5. कंपनी का पिछला Record भी चेक कर लें

जिस भी कंपनी के Mutual Fund योजना में आप निवेश करने जा रहे हैं उसके पीछे रिकार्ड्स और प्रदर्शन की जांच अच्छी तरह से कर ले.
कंपनी के बारे में कुछ जरूरी जानकारियां जैसे की , कंपनी कितने समय से काम कर रही है, कंपनी के दूसरी योजनाओ का प्रदर्शन कैसा रहा है, और उस कंपनी की बाज़ार में कैसी स्थिति है आदि.

इसके अलावा उस कंपनी के फंड मेनेजर का पिछला record भी अच्छी तरह से चेक कर ले, ऐसा करना इसलिए जरूरी होता है क्युकी आपके पैसे कहाँ पर निवेश करने हैं इस बात का पूरा दायित्व Manager को होता है.और एक काबिल मेनेजर आपके पैसों को बेहतर तरीके से एक अच्छी जगह पर निवेश करने के तरीके जानता है.


#4. Mutual Funds खरीदने के तरीके In Hindi

 किसी भी म्यूचुअल फंड योजना में आप Online(AMC के द्वारा प्रदान की जाने वाली ऑनलाइन निवेश सुविधा) या फिर Offline(किसी Mutual Fundकंपनी की शाखा में जा कर) निवेश कर सकते हैं.

लेकिन चाहे आप ऑनलाइन निवेश करे या फिर ऑफलाइन निवेश करे आपको कुछ जरूरी दस्तावेजों की आवश्यकता होगी-: फोटो, पैन कार्ड,नाम, पता प्रमाण, बैंक खाता विवरण, और केवाईसी अनुपालन(Photo, Pan Card, Name and Address Proof, Bank account Details, KYC Compliance)


#1. Online(ऑनलाइन के माध्यम से)

यदि आप खुद ही म्यूच्यूअल फंड्स  चयन कर सकते हैं या फिर आपके मित्रों ने आपको सुझाव दिया है तो ये आपके लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है. इसका एक मुख्य फायदा ये है की आप सीधे MF AMC(Mutual fund Asset Management company) के साथ जुड़ सकते हैं और ऐसा करने पर आपसे किसी तरह का कमीशन नहीं लिया जायेगा.

Step 1 - वेबसाइट पर जाएं और ऑनलाइन लेनदेन सेवाओं के लिए पंजीकरण करें। सभी आवश्यक जानकारी जैसे नाम, ईमेल, फोन नंबर,D.O.B, पता, पैन नंबर आदि प्रदान करें.

Step 2 - इसके बाद एक F-Pin generated किया जायेगा जिसे आपके Email-Id औरे Registered Mobile नंबर पर भेजा जायेगा.

Step 3 - इस F-Pin का उपयोग करके आप अपना यूजर आईडी और पासवर्ड(User Id and Password) बना सकते हैं.

Step 4 - User Id और पासवर्ड की मदद से Login करें इसके बाद आप निवेश करना शुरू कर सकते हैं.

#2. Online Mutual Funds खरीदने की Websites

  • Karvy Online
  • ICICI Prudential

#3. Offline निवेश करना (आवेदन पत्र के माध्यम से)


Step 1-  म्यूचुअल फंड के एजेंट या Distributor से Contact करें।

Step 2- अपना  Application Form प्राप्त करें।

Step 3- अपनी सभी आवश्यक जानकारी प्रदान करने के लिए आवेदन पत्र को सही सही  भरें, अर्थात नाम, पता, पैन, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर आदि। आपके द्वारा दी गयी Email Id और Mobile No.का उपयोग Communication और ऑनलाइन लेनदेन सेवाओं के लिए भी Use किया जा सकता है।

Step 4- Application Form के साथ सभी Relevant Documents की प्रतियां संलग्न करें और जितने भी Amount का आप निवेश करना चाहते हैं उतने ही AMount का एक Cheque या Demand Draft भी फॉर्म के साथ सबमिट करें.

Step 5- अगर आप किसी एजेंट या distributor के माध्यम से आवेदन करते हैं, तो वे खुद ही आवेदन पत्र और सभी प्रासंगिक documentsको  Cheque के साथ  म्यूचुअल फंड कंपनी में जमा करेंगे।

Step 6- इसके बाद म्यूचुअल फंड कंपनी आपको Investment करने के लिए एक फ़ोलियो नंबर(Folio No)देगी  और आपको एक Account Statement जारी करेगी.

≻ सेंसेक्स क्या होता है 
≻ निफ़्टी क्या है 

#5. Kyc क्या है?

1 जनवरी, 2011 से SEBI के नियम के अनुसार, जो लोग म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं वे अपने-ग्राहक (KYC) मानदंडों के अनुरूप होने चाहिए, चाहे वो कितना भी निवेश कर रहे हैं. इसका मतलब है की आप तब तक किसी Mutual Fund को नहीं खरीद सकते जब तक आप Mutual Fund KYC के अनुरूप नहीं हो जाते.

इसलिए म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश करने से पहले आपको अपनी KYC  प्राप्त करनी होगी जिसे आप Broker  या Fund  management  Company  से प्राप्त  कर सकते हैं.

मुझे उम्मीद है की अब आपको समझ आ गया होगा की म्यूच्यूअल फंड्स क्या है  Mutual Funds In Hindi.अगर अभी भी आपके मन में Mutual  Fund  से जुड़ा कोई भी सवाल है तो कमेंट के माध्यम से जरूर पूछे। और मेरा आपसे निवेदन है की इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा Social  Media  और अपने मित्रों तक शेयर करके जरूर पहुंचाए।


Subscribe Now

Subscribe to my Newsletter